देहरादून के जंगल में धू धू जलने लगी जनशताब्दि,यात्री सुरक्षित

0
192

द लीडर देहरादून।

दिल्ली से दून आ रही जनशताब्दी एक्सप्रेस की बोगी सी-5 में शनिवार दोपहर साढ़े12 बजे कासरो स्टेशन से पहले आग लग गयी। चलती ट्रेन में आग की लपटें देख कर यात्रियों में अफरातफरी मच गई। भगदड़ में उतरते समय कुछ को मामूली चोटें आईं है। इमरजेंसी ब्रेक लगाकर ट्रेन को कासरो स्टेशन से एक किमी पहले ही रोक लिया। रेलवे के अनुसार ट्रैन के सभी यात्री सुरक्षित हैं। आग की वजह शार्ट सर्किट बताया जा रहा है।

बुरी तरह जल गई बोगी
बोगी के अंदर का हाल

घटना शनिवार दोपहर करीब 12:30 बजे की बताई जा रही है। जनशताब्दी एक्सप्रेस जब राजाजी टाइगर रिजर्व की कंसरो रेंज से होकर गुजर रही थी तभी रेलगाड़ी के (सी 5) कोच में अचानक आग लग गई। पायलट ने तत्काल इमरजेंसी ब्रेक लगाकर रेलगाड़ी को कंसरो रेंज के नजदीक ही रोक दिया।

ये हाल हो गया ए सी कोच का

आग इतनी तेजी से फैली की ट्रेन के रुकते ही अफरा तफरी फैल गई उसी दौरान बहुत तेजी से दौड़ते हुए वन विभाग के रेंजर राजेंद्र प्रसाद नौटियाल डिप्टी रेंजर गणेश बहुगुणा मोहन सिंह पृथ्वी सिंह गुलाम अली जलते हुए डिब्बे के पास पहुंचे और उसमें से यात्रियों को बाहर निकाला। कुछ लोगों का सामान डिब्बे के अंदर ही रह गया और आग की भेंट चढ़ गया एक व्यक्ति रोते हुए उस डिब्बे से नीचे उतरा था उसका कहना था कि उसकी बेटी की शादी के लिए 12 लाख का सोना उस डिब्बे में है जो जल गया है ।
कुछ देर बाद मौके पर रायवाला की पुलिस टीम और सप्त ऋषि से फायर ब्रिगेड की गाड़ियां पहुंच गई लेकिन रेलवे इंजन कि देहरादून जाने के कारण वह आग नहीं बुझा पाई क्योंकि 25000 वोल्ट का करंट लगने का अंदेशा था बहराल आगे के आठ डिब्बे देहरादून रेलवे स्टेशन पहुंचाएं गए और पीछे के पांच डिब्बे रायवाला रेलवे स्टेशन ले जाएं गए इसके बाद रेलवे की बिजली को बंद किया गया और जब तक पूर्ण रूप से जल चुके रेलवे के डिब्बे की आग बुझाई गई जीआरपी के एसपी गणेश कुमार कटियाल ने निर्देशित किया कि आग बुझाने के बाद डिब्बे को जीआरपी के जवान देखेंगे और जिनका सामान इसमें जला है उन्हें बुलाकर यह सामान उनके सुपुर्द किया जाएगा । मौके पर डिब्बे को ट्रेन से अलग करने वाले इंजन के असिस्टेंट पायलट की सराहना की गई कि जलती हुई ट्रेन को उन्होंने डिब्बा काटकर बाकी ट्रेन से अलग किया।
ट्रेन में कुल 316 यात्री सवार थे पीछे के पांच डिब्बों में जो यात्री यात्रा कर रहे थे उन्हें उतार कर आगे के आठ डिब्बों में बैठाया गया और देहरादून के लिए ट्रेन को आठ डिब्बों के साथ रवाना किया गया ।
वन रेंज के रेंज अधिकारी आरपी नौटियाल ने बताया कि किसी भी यात्री को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है।

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक 12:50 बजे ऋषिकेश कंट्रोल की सूचना थानाध्यक्ष रायवाला अमरजीत सिंह रावत मय फोर्स के तत्काल रेलवे स्टेशन कांसरो से आगे पोल नंबर 48/4 पर पहुंचे।  फायर सर्विस टेंडर को रेलवे व अन्य व्यक्तियों की मदद से रेलवे ट्रैक के नजदीक लाया गया तथा C-5 बोगी मे लगी आग को बुझवाया गया।

ट्रैन का संचालन रोका
कासरो स्टेशन में ट्रेन के रोके होने से अन्य ट्रैन का संचालन रोक दिया गया। दोपहर एक बजे देहरादून से इलाहाबाद जाने वाली लिंक एक्सप्रेस को दून स्टेशन पर ही रोक दिया गया है। वहीं काठगोदाम से दून आने वाली नैनी दून को भी हरिद्वार में रोक दिया गया। मुज्जफरपुर गोरखपुर से दून आ रही राप्ती एक्सप्रेस को भी हरिद्वार में रोका गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here