चीन का वुहान शहर… जहां से पूरी दुनिया में फैला था कोरोना वायरस, वहां एक बार फिर लगा लॉकडाउन

0
159

द लीडर। चीन का वुहान शहर एक बार फिर घरों में कैद होने को मजबूर हो गया है। साल 2020 में जहां चीन के वुहान शहर से पूरी दुनिया में कोरोना वायरस फैला था आज फिर वह शहर कोरोना संक्रमण के चलते लॉकडाउन में जकड़ गया है।

वुहान शहर में लॉकडाउन लगने से लगभग 10 लाख से ज्यादा लोग घरों में कैद हो गए हैं। वुहान एक ऐसा शहर है जहां चीन ने दुनिया का सबसे पहले लॉकडाउन लगाया था। लेकिन अब यहां कोरोना संक्रमण बढ़ने से लोगों की चिंता फिर बढ़ गई है।

जियांग्ज़िया जिले में लॉकडाउन लागू 

रिपोर्ट के अनुसार, वुहान शहर के जियांग्ज़िया जिले में तालाबंदी कर दी गई है और निवासियों को तीन दिनों के लिए अपने घरों या परिसर में रहने के लिए कहा गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि, चार मामलों में से, दो मामले 48 घंटे पहले नियमित परीक्षण के परिणामस्वरूप रिपोर्ट किए गए थे, जिसके बाद तीसरे और चौथे को संपर्क ट्रेसिंग के माध्यम से जल्दी से पालन किया गया था। इसके तुरंत बाद,अधिकारियों ने शहर में लॉकडाउन लागू कर दिया।


यह भी पढ़ें: Commonwealth Games 2022 : बर्मिंघम में राष्ट्रमंडल खेलों का आज से आगाज, इस साल 72 टीमें ले रही हिस्सा

 

12 मिलियन लोगों का शहर वुहान दुनिया भर में उस पहले स्थान के रूप में लोकप्रिय हुआ, जहां वैज्ञानिकों ने कोविड -19 का पता लगाया था। यह पहला शहर भी था जिसे कठोर प्रतिबंधात्मक उपायों के तहत रखा गया था क्योंकि 2020 की शुरुआत में वैश्विक महामारी फैल गई थी।

“शून्य कोविड -19” की रणनीति अपना रहा चीन

कोरोना के बढ़ते केस के बीच चीन ने “शून्य कोविड -19” रणनीति अपनाई है जिसके तहत अधिकारी बड़े पैमाने पर परीक्षण करते हैं, सख्त अलगाव नियम घोषित करते हैं और स्थानीय लॉकडाउन लागू करते हैं। जून में शंघाई शहर दो महीने के सख्त लॉकडाउन से उभरा है। रिपोर्ट के अनुसार गुरुवार सुबह तक, चीन ने कुल 2,167,619 कोविड मामलों और 14,647 मौतों की पुष्टि की है।

वुहान शहर में कोरोना वायरस के कई मामले सामने आने के बाद शहर में सार्वजनिक मनोरंजन स्थलों और परिवहनों को बंद कर दिया गया है। साथ ही तमाम दुकानें और मॉल्स बंद कर दिए गए हैं। साथ ही कृषि मंडियों को भी बंद कर दिया गया है।

लोगों को हिदायत- यात्रा करने से बचें

जियांगक्सिया जिले में कोरोना के 4 नए केस सामने आए हैं। इस जिले की आबादी करीब 10 लाख है. कोरोना वायरस ज्यादा तेजी से पैर न पसारे इसलिए वहां पर लॉकडाउन लगा दिया गया है। और लोगों के एक साथ जमा होने पर पाबंदी लगा गई है। लोगों को हिदायत दी जा रही है कि यात्रा करने से बचें।

बता दें कि कोविड-19 महामारी की शुरुआत 2019 में चीन के वुहान में हुआनन सीफूड होलसेल मार्केट में हुई थी और इसके परिणामस्वरूप कई स्पिलओवर घटनाएं हुईं। जिनमें सार्स-सीओवी-2 वायरस जीवित जानवरों से वहां काम करने वाले या खरीदारी करने वाले मनुष्यों के शरीर में पहुंचा।

लॉकडाउन से वैश्विक सप्लाई चेन बाधित होने की चिंताएं बढ़ी

बताया जा रहा है कि, चीन के शेनजेन में भी कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं। जिससे यहां भी लॉकडाउन लगने की संभावना है। वहीं चीन में मंगलवार को 604 मामलों की पुष्टि हुई थी। जिसमें शेनज़ेन शहर में चार मामले दर्ज किए गए थे। यहां अब तक कोरोना मामलों की संख्या 150 के पार पहुंच गई है।

संक्रमण के ख़तरे के बीच शहर में कई नए नियम लागू किए गए हैं। जिसमें कंपनियों को हफ्ते में सातों दिन ताले लगाने पड़ रहे हैं। इससे एक बार फिर वैश्विक सप्लाई चेन बाधित होने की चिंताएं बढ़ी है।

भारत में 24 घंटे में 20,557 नए मामले

बता दें कि, भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 20,557 नए मामले सामने आए है। इसके साथ ही देश में पिछले 24 घंटों में 19,216 मरीज ठीक होकर घर लौटे हैं। वहीं 44 लोगों की मौत हो गई है। फिलहाल देश में कोरोना को लेकर केंद्र सरकार के साथ-साथ राज्य सरकारें भी अलर्ट मोड में हैं।

पूरी दुनिया में अब इस बात का डर

गौरतलब है कि, चीन के वुहान शहर में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए दुनिया के अन्य देशों की भी चिंता बढ़ गई है। लोगों को चिंता है कि, अब फिर से वही हालात पैदा न हो जाए। जो साल 2020 और 2021 में थे। इस दौरान दुनिया में करोड़ों लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी थी।


यह भी पढ़ें:  तिहाड़ जेल में भूख हड़ताल पर बैठे अलगाववादी नेता यासीन मलिक की बिगड़ी तबीयत, RML अस्पताल में भर्ती