लालू यादव के खिलाफ सीबीआई ने दोबारा खोला भ्रष्टाचार का केस, बिहार की सियासत फिर से हुई गर्म

0
44

द लीडर हिन्दी: राजदा सुप्रीमो और बिहार के पूर्व मुख्य मंत्री लालू प्रसाद यादव की मुसीबतें फिर बढ़ने वाली हैं. केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने उनके खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले में दोबारा जांच शुरू कर दी है। यह मामला रेलवे परियोजनाओं में भ्रष्टाचार का है. लालू यादव इस दौरान यूपीए सरकार में रेल मंत्री रहे थे। आरोप है कि तभी भ्रष्टाचार हुआ। इस मामले में सीबीआई ने 2018 में जांच शुरू की थी. मई 2021 में जांच बंद कर दी गई थी. यही मामला अब फिर खुला है। बिहार सीएम नीतीश कुमार के भाजपा से अलग होकर राजद के साथ गठबंधन में शामिल होने के बाद सीबीआई के इस कदम से राज्य में राजनीतिक भूचाल आना तय है।

भारतीय रेलवे की परियोजनाओं में भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच शुरू होने पर लालू पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं। इससे पहले उन्‍हें अन्‍य मामलों में सजा हो चुकी है और वह लंबे समय तक जेल में भी रहे। हाल में उनकी एक गंभीर बीमार का इलाज भी किया गया था, जिसमें उनकी बेटी ने किडनी डोनेट की थी। लालू का नाम चारा घोटाले में बतौर मुख्‍य आरोपी रहा। उसके अलावा जब वह यूपीए सरकार में रेल मंत्री के पद पर थे।

तभी उन पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे.इस मामले में कहा गया था कि लालू यादव ने रेलवे के प्रोजेक्ट्स निजी कंपनी को देने के एवज में दक्षिणी दिल्ली की एक प्रॉपर्टी रिश्वत के तौर पर हासिल की थी। आरोप था कि इस निजी कंपनी ने एक शेल कंपनी के जरिए प्रॉपर्टी काफी कम दाम में खरीदी और फिर इस शेल कंपनी को तेजस्वी यादव और लालू यादव के संबंधियों ने खरीद लिया।

शेल कंपनी को खरीदने के लिए महज चार लाख रुपये की राशि शेयर ट्रांसफर के जरिए चुकाई गई। बदले में दक्षिण दिल्ली का बंगाल  बिहार में जदयू और राजद गठबंधन लगातार केंद्र सरकार द्वारा केंद्रीय एजेंसियों के गलत इस्तेमाल का आरोप लगाता रहा है। इस बीच लालू के खिलाफ केस दोबारा खुलने की खबरों से बिहार में एक बार फिर सियासत गर्म हो गई है।