म्यांमार में सबसे खूनी दिन, सेना ने मार डाले 114 नागरिक

0
115

 

यंगून। म्यांमार में सैन्य तख्तापलट के बाद से चल रहे प्रदर्शनों को दबाने के लिए शनिवार को सेना ने इतना क्रूर चेहरा दिखाया कि ये दिन इस देश का सबसे खूनी दिन बन गया। तख्ता पलट के खिलाफ जारी हिंसक विरोध-प्रदर्शनों के बीच सुरक्षा बलों और प्रदर्शनकारियों की झड़प में शनिवार को 114 लोगों की मौत हो गई। देश में तख्तापलट के बाद एक दिन में हुईं मौतों की यह सबसे बड़ी संख्या है।
शनिवार को ही म्यांमार में आर्म्ड फोर्सेज डे मनाया गया। इस दिन सेना परेड निकालकर अपनी ताकत का प्रदर्शन करती है।

एक ऑनलाइन न्यूज वेबसाइट म्यांमार नाऊ ने दावा किया कि शनिवार को हिंसक प्रदर्शन में मरने वाले वालों की संख्या 114 तक पहुंच गई है। इससे पहले 14 मार्च को 74 से 90 लोगों की मौत हुई थी। यंगून के एक इंडिपेंडेंट रिसर्चर के मुताबिक 20 से ज्यादा शहरों और कस्बों में ये प्रदर्शन हुए। जबकि सेना ने शांत इलाकों में भी धावा बोला।
सेना ने एक साथ 44 शहरों औऱ कस्बों में आंदोलन कुचलने के लिये अपनी ताकत का प्रदर्शन किया ।कुछ जगह तो बस्तियों को घेर कर फायरिंग की गई। मिखतीला में ऐसे ही एक हमले में एक 13 साल का बच्चा भी मारा गया।
सयुंक्त राष्ट्र महासचिव के प्रवक्ता फरहान हक़ ने एक बयान जारी कर कहा है पिछले महीने से शरू हुए दमन के इस खूनी खेल की इंतिहा हो रही है। अब वक्त आ गया है कि विश्व समुदाय एकजुट होकर इसे रोके।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here