भारत दौरे पर बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना, हैदराबाद हाउस में की पीएम मोदी से मुलाकात

0
36

द लीडर हिंदी: प्रधानमंत्री मोदी के रिश्ते पड़ोसी मुल्कों से कफी मजबूत बनते जा रहे है. जिसका नजारा देखने को मिला कल शुक्रवार को.बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना दो दिवसीय दौरे पर भारत आई हुई हैं. शुक्रवार को दिल्ली एयरपोर्ट पर विदेश राज्य मंत्री कीर्तिवर्धन सिंह ने उनका स्वागत किया. बता दें प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में शेख हसीना का राष्ट्रपति भवन में स्वागत किया गया. इसके बाद शेख हसीना और पीएम मोदी ने राष्ट्रपति के प्रांगण में दोनों देशों के मंत्रियों से मुलाकात की. इस दौरान बांग्लादेश की पीएम का स्वागत के लिए पीएम मोदी के साथ विदेश मंत्री एस. जयशंकर, केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा, राज्य मंत्री जीतेंद्र सिंह और कीर्तिवर्धन सिंह भी मौजूद रहे.

ये पहला मौका नहीं जब शेख हसीना भारत आई हो. इससे पहले 9 जून को पीएम मोदी के तीसरी बार प्रधानमंत्री शपथ ग्रहण समारोह में वो शामिल हुई थी. भारत पहुंचने के बाद शेख हसीना ने राजघाट में जाकर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि भी अर्पित की. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रंधीर जयसवाल ने कहा कि शेख हसीना का यह दौरा भारत-बांग्लादेश दोनों देशों के संबंधों को बढ़ावा देगा. उन्होंने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर पोस्ट करते हुए कहा, “भारत के दौरे के लिए बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना दिल्ली पहुंचीं. विदेश राज्य मंत्री कीर्तिवर्धन सिंह ने उनका स्वागत किया. बांग्लादेश भारत का एक प्रमुख भागीदार और विश्वसनीय पड़ोसी है. यह दौरा भारत-बांग्लादेश देशों के संबंधों को बढ़ावा देगा.

आपको बतादें कि हैदराबाद हाउस में पीएम मोदी और शेख हसीना की उपस्थिति में भारत और बांग्लादेश ने समझौता ज्ञापनों का आदान प्रदान किया. दोनों देशों के नेता ने एक संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया.पीएम मोदी ने इस प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा, पिछले एक साल में हम 10 बार मिले. आज की बैठक विशेष है, क्योंकि हमारे तीसरे कार्यकाल में शेख हसीना हमारी पहली राजकीय अतिथि हैं.

पीएम मोदी ने आगे कहा, “पिछले एक साल में हमने कई महत्वपूर्ण परियोजनाओं को पूरा किया. दोनों देशों के बीच भारतीय रुपये में व्यापार शुरू हो गया है. भारत और बांग्लादेश के बीच गंगा नदी पर दुनिया की सबसे लंबी रिवर क्रूज सफलतापूर्वक पूरी हो गई है. भारत और बांग्लादेश के बीच पहली क्रॉस-बॉर्डर मैत्री पाइपलाइन पूरी हो गई है. भारतीय ग्रिड के माध्यम से नेपाल से बांग्लादेश को बिजली का निर्यात ऊर्जा क्षेत्र में उप-क्षेत्रीय सहयोग का पहला उदाहरण बन गया है. सिर्फ एक साल में इतने सारे क्षेत्रों में इतनी बड़ी पहल को लागू करना हमारे संबंधों की गति और पैमाने को दर्शाता है.पीएम मोदी का ये कदम बांग्लादेश के साथ भारत के रिश्तों को और भी मजबूत करने का कदम बताया जा रहा है.https://theleaderhindi.com/new-revelation-in-salman-khan-firing-case-voice-sample-of-lawrences-brother-matched-he-was-giving-instructions-on-phone/