धार्मिक स्थलों के विवाद के बीच देवबंद में 25 राज्यों के मुस्लिमों का बड़ा सम्मेलन : मौलाना बोले- आज नरफत की आग में जल रहा देश

0
104

द लीडर। उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में मुस्लिम संगठन जमीयत उलमा-ए-हिंद का बड़ा सम्मेलन चल रहा है। जमीयत उलमा-ए-हिंद के नेशनल सेक्रेटरी मौलाना नियाज अहमद फारूकी ने कहा कि, आज हमारा देश धार्मिक बैर भाव और नफरत की आग में जल रहा है। युवकों को इस ओर बढ़ाया जा रहा है।

देश के मुस्लिम नागरिकों, पुराने जमाने के मुस्लिम शासकों और इस्लामी सभ्यता और संस्कृति के खिलाफ और निराधार आरोपों को जोरों से फैलाया जा रहा है। सत्ता में बैठे लोग उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने के बजाय उन्हें आजाद छोड़ कर हौसला बढ़ा रहे हैं।


यह भी पढ़ें: डरा रहा मंकीपॉक्स : यूपी में अलर्ट जारी, दूसरे देशों से आने वाले लोगों पर निगरानी रखने की जरूरत


 

इस्लाम के खिलाफ शत्रुता के प्रचार से देश की बदनामी हो रही

मौलाना नियाज अहमद ने कहा कि, जमीयत उलमा-ए-हिंद इस बात पर चिंतित है कि भरी सभाओं में मुसलमानों और इस्लाम के खिलाफ शत्रुता के प्रचार से दुनिया में हमारे देश की बदनामी हो रही है। इससे हमारे देश के विरोधी तत्वों को अंतरराष्ट्रीय मंचों पर अपने एजेंडे को आगे बढ़ाने का मौका मिल रहा है।

ऐसी परिस्थिति में जमीयत उलमा-ए-हिंद देश की एकता, अखंडता और प्रगति के बारे में चिंतित हैं। भारत सरकार से आग्रह करती है कि ऐसी गतिविधियों पर तुरंत रोक लगाई जाए जो लोकतंत्र, न्यायप्रियता और नागरिकों के बीच समानता के सिद्धांतों के खिलाफ और इस्लाम पर आधारित हैं।

कार्यक्रम में 25 राज्यों से आए हैं लोग

जमीयत उलमा-ए-हिंद के कार्यक्रम में 25 राज्यों से लोग आए हैं। इनमें मुख्य रूप से महाराष्ट्र से आए मौलाना नदीम सिद्दीकी, UP से मौलाना मोहम्मद मदनी, तेलंगाना से हाजी हसन, मणिपुर से मौलाना मोहमद सईद, केरल से जकरिया, तमिलनाडु से मौलाना मसूद, बिहार से मुफ्ती जावेद, गुजरात से निसार अहमद, राजस्थान से मौलाना अब्दुल वाहिद खत्री, असम से हाजी बसीर, त्रिपुरा से अब्दुल मोमिन पहुंचे हैं।

सांसद मौलाना बदरूद्दीन अजमल, पश्चिम बंगाल में ममता सरकार में मंत्री मौलाना सिद्दीकी उल्लाह चौधरी और शूरा सदस्य मौलाना रहमतुल्लाह कश्मीरी सहित कई बड़ी हस्तियां भी देवबंद पहुंच चुकी हैं। इसके अलावा झारखंड, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल से भी मुस्लिम संगठन के लोग आए हैं।

तीन चरणों में संपन्न होगा सम्मेलन

सम्मेलन में देश के मौजूदा हालात और ज्ञानवापी मस्जिद समेत विभिन्न धार्मिक स्थलों को लेकर बढ़ रहे विवाद, कॉमन सिविल कोड, मुस्लिम वक्फ एवं मुस्लिमों की शिक्षा आदि मुद्दों पर चर्चा होनी है।

जमीयत उलमा-ए-हिंद के जिला महासचिव जहीन अहमद ने बताया कि मौलाना महमूद मदनी की अध्यक्षता में होने वाला यह जलसा तीन चरणों में संपन्न होगा। एजेंडे पर विचार-विमर्श के बाद रविवार को अंतिम चरण के कार्यक्रम में सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित किए जाएंगे।

पांच बीघा जमीन में फुली कवर्ड AC पंडाल तैयार

जमीयत उलमा-ए-हिंद के सम्मेलन में देश के अलग-अलग राज्यों से आने वाले जमीयत से जुड़े लोगों के बैठने के लिए उचित व्यवस्था की गई है।

करीब पांच बीघा जमीन में फुली कवर्ड AC पंडाल तैयार किया गया है। इसमें ढाई-ढाई टन के 20 से ज्यादा AC लगाए गए हैं। मेहमानों के रहने की व्यवस्था होटल के अलावा ईदगाह मैदान में बनाए गए पंडाल में भी की गई है।

सम्मेलन को लेकर पुलिस प्रशासन अलर्ट

सम्मेलन को लेकर पुलिस प्रशासन ने भी पूरी तैयारी कर ली है। देशभर से आने वाले डेलिगेशन और उलमाओं की सुरक्षा को लेकर विशेष इंतजाम रहेंगे। अन्य जिलों से एक्ट्रा फोर्स मंगवाई गई है। पंडाल और आसपास LIU भी अलर्ट रहेगी।

एसएसपी आकाश तोमर का कहना है कि, सम्मेलन को लेकर पूरी तैयारियां पुलिस प्रशासन ने कर ली है। सम्मेलन स्थल पर एक कंपनी PAC, तीन पुलिस निरीक्षक, दस उपनिरीक्षक, छह महिला कांस्टेबल और 40 सिपाहियों की तैनाती की जाएगी।


यह भी पढ़ें:  बेगूसराय में आरोपियों के घर पुलिस ने चिपकाया इश्तेहार, कहा- 24 घंटे में सरेंडर करो नहीं तो चलेगा बुलडोजर

 

तीन सेशन में बैठक

पहला सेशन : 28 मई सुबह 8:45 से 1:00 बजे (दिन)
दूसरा सेशन : 28 मई शाम 7:30 से 9:30 बजे (रात)
तीसरा सेशन : 29 मई सुबह 8:45 से 1:00 बजे (दिन)

दिल्ली में तय हुई थी देवबंद की बैठक

कहा जा रहा है कि ज्ञानवापी, मथुरा और कुतुबमीनार मसले पर चर्चा करने के लिए यह बैठक बुलाई गई है। जमीयत ने यह स्पष्ट किया है कि इस आयोजन का ऐलान एकाएक नहीं हुआ।

15 मार्च को दिल्ली में हुई बैठक में ही देवबंद के इस कार्यक्रम को तय कर दिया गया था। उस वक्त ज्ञानवापी और मथुरा जैसे मुद्दे शुरू भी नहीं हुए थे। हालांकि, जमीयत से जुड़े लोग इतना जरूर कहते हैं कि देश के मौजूदा हालातों पर इन तीनों सत्रों में चर्चा होगी। इसमें चर्चा का बिंदु कुछ भी हो सकता है।

ज्ञानवापी पर जमीयत का स्टैंड

जमीयत उलमा-ए-हिंद के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना महमूद मदनी ज्ञानवापी मसले पर 18 मई को ही अपना स्टैंड क्लियर कर चुके हैं। प्रेस बयान जारी करके उन्होंने कहा था, ज्ञानवापी मस्जिद का मामला साम्प्रदायिक तत्वों की शरारत की वजह से सार्वजनिक और न्यायिक स्तर पर चर्चा का विषय बना हुआ है।

कुछ असामाजिक तत्व दो समुदायों के बीच दरार पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं। इन परिस्थितियों में जमीयत उलमा-ए-हिंद भारत के सभी लोगों, विशेषकर भारत के मुसलमानों से सहानुभूतिपूर्वक अपील करती है कि-

1- ज्ञानवापी मस्जिद जैसे मुद्दे को सड़क पर न लाया जाए और सार्वजनिक प्रदर्शनों से बचा जाए।
2- इस मामले में मस्जिद इंतेजामिया कमेटी एक पक्षकार के रूप में अदालतों में मुकदमा लड़ रही है। देश के अन्य संगठनों से अपील है कि वह इस केस में सीधे हस्तक्षेप न करें, जो सभी सहायता करनी है, अप्रत्यक्ष रूप से कमेटी को करें।
3- उलेमा और वक्ता टीवी डिबेट और बहस में भाग लेने से बचें। मामला न्यायालय में विचाराधीन है, इसलिए सार्वजनिक भाषणबाजी देश और मुसलमानों के हित में नहीं है।


यह भी पढ़ें:  बरेली : भोजीपुरा विधायक शहज़िल इस्लाम का जब विधानसभा में मुख्यमंत्री से हुआ सामना