यहां हुआ चुनाव आम आदमी ने भाजपा को दिया करारा झटका

0
129
दिल्ली निगम चुनाव

दिल्ली।दिल्ली में हुए नगर निगम उपचुनाव के पांच वार्ड के नतीजे घोषित हो चुके हैं। रोहिणी सी, शालीमार बाग, त्रिलोकपुरी, कल्याणपुरी और चौहान सीट पर उपचुनाव हुए थे।

दिल्ली निगम चुनाव

इनमें से चार सीट आम आदमी पार्टी ने अपनी ओर कर ली है वहीं कांग्रेस ने एक पर कब्जा जमाया है। दूसरी ओर भाजपा अपनी एक सीट भी नहीं बचा पाई है।

10 हजार से ज्यादा वोटों से कांग्रेस आगे

चौहान बांगर वार्ड से कांग्रेस उम्मीदवार 10 हजार से ज्यादा वोट से लीड कर रहे हैं। यह पांचों वार्डों में सबसे ज्यादा वोट पाने वाली सीट है।

कल्याणपुरी वार्ड से जीते आप उम्मीदवार धीरेंद्र कुमार

कल्याणपुरी वार्ड में कुल 9 राउंड की मतगणना के बाद परिणाम घोषित कुए गए। यहां से आम आदमी पार्टी से उम्मीदवार धीरेंद्र कुमार को सफलता मिली। धीरेंद्र कुमार से 14,302 वोटों से इस सीट पर अपना कब्जा जमाया। दूसरे स्थान पर आने वाली भाजपा केवल 7 हजार वोटों पर ही सिमट कर रह गई। भाजपा ने इस सीट पर सियाराम कन्नौजिया को उम्मीदवार बनाया था।

तो क्या भाजपा सांसद के बेटे ने खुद को गोली मरवायी!

दिल्ली नगर निगम उपचुनाव काउंटिंग-

  1. कल्याणपुरी – आप4732 वोट से आगे(6 राउंड)
  2. त्रिलोकपुरी – आप3156 वोट से आगे(4 राउंड)
  3. चौहान बांगड़- कांग्रेस 7043 वोट से आगे (6 राउंड)
  4. शालीमार बाग – आप1472 वोट से आगे(5 राउंड)
  5. रोहिणी C – आप2323 वोट से आगे (8 राउंड)

चार वार्डों में आप को बढ़त

नगर निगम उपचुनाव के लिए रोहिणी सी, शालीमार बाग, त्रिलोकपुरी, कल्याणपुरी और चौहान बांगर इलाके में चुनाव हुआ है जिसमें से चौहान बांगर को छोड़कर सभी चार सीटों पर आम आदमी पार्टी आगे चल रही है।

कैसे आयशा की मौत ने समाज, सरकार और धर्मगुरुओं की असलियत को उजागर कर दिया!

28 फरवरी को हुए थे पांचों वार्डों में चुनाव

बता दें कि दिल्ली में नगर निगम की पांच सीटों पर गत 28 फरवरी को 44 केंद्रों पर उपचुनाव हुआ था। इसमें सभी वार्डों के कुल 24,24,14 मतदाताओं में से 12,32,99 मतदाताओं ने लोकतंत्र के पर्व में हिस्सा लिया था। इस उपचुनाव में केवल 50.86 फीसद मतदान ही हुआ था। सबसे ज्यादा मतदान कल्याणपुरी वार्ड में हुआ जबकि सबसे कम शालीमार बाग 43.33 फीसदी रहा था।

2022 के निगम चुनाव

इस उपचुनाव से 2022 में होने वाले निगम चुनाव में भी फायदा मिलेगा। यह ही आगे की दिशा भी तय करेगा। इस उपचुनाव के परिणाम से जनता के रूझान का भी पता चलेगा। इस उपचुनाव को अगले साल होने वाले निगम चुनावों का सेमीफाइल भी माना जा रहा है।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here