WFI अध्यक्ष बृजभूषण के खिलाफ पहलवानों का प्रदर्शन, भारतीय कुश्ती संघ के चुनावों पर लगी रोक

0
196

नई दिल्ली: एक तरफ जहां WFI के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ यौन उत्पीड़न के आरोपों को लेकर पहलवानों ने एक बार फिर से जंतर-मंतर पर धरना शुरू कर दिया है तो दूसरी तरफ खेल मंत्रालय ने भारतीय कुश्ती संघ के चुनाव पर रोक लगा दी है। इससे पहले ये चुनाव अगले महीने वाले थे। वहीं इस मामले में खेल मंत्रालय की तरफ से कहा गया है कि भारतीय ओलंपिक संघ एक एडहॉक कमेटी बनाएगी। यही कमेटी 45 दिनों के अंदर कुश्ती महासंघ का चुनाव करवाएगी। इसके साथ आईओए की कमेटी ही खिलाड़ियों का सेलेक्शन भी करेगी और फेडरेशन का रोज का कामकाज भी देखेगी।

वहीं सोमवार को धरने पर बैठी महिला पहलवानों ने कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की। इस याचिका में विनेश फोगाट समेत 7 पहलवानों ने शीर्ष अदालत से बृजभूषण सिंह के खिलाफ एफआईआर का आदेश देने की मांग की है।

वरिष्ठ अधिवक्ता नरेंद्र हुड्डा ने भारत के मुख्य न्यायाधीश डी वाई चंद्रचूड़ के समक्ष याचिका का उल्लेख किया, जिन्होंने उन्हें कल मामले का फिर से उल्लेख करने के लिए कहा क्योंकि उनकी याचिका आज की उल्लिखित मामलों की सूची में नहीं थी। विनेश फोगट और अन्य सात पहलवानों ने शीर्ष अदालत से आग्रह किया है कि वह दिल्ली पुलिस को बृजभूषण के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश जारी करे क्योंकि ऐसा करने में अत्यधिक देरी हो रही है। मामले से जुड़े वकील के मुताबिक याचिकाकर्ता तत्काल सुनवाई के लिए कल फिर अदालत का दरवाजा खटखटाएंगे।

इस पुरे घटनाक्रम के बीच दिल्ली पुलिस ने ओवरसाइट कमेटी की जांच को लेकर खेल मंत्रालय से स्टेटस रिपोर्ट मांगी की है। वहीं आपको बताते चले कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ लगे आरोपों की जांच के लिए पहलवानों से चर्चा के बाद खेल मंत्रालय ने इसी साल जनवरी में 6 सदस्यीय ओवरसाइट कमेटी का गठन किया था। मैरी कॉम को इस समिति का अध्यक्ष बनाया गया था।

ये भी पढ़ें – वो जेल जो ख़ालिस्तान समर्थक अमृतपाल सिंह को क़ैद किए जाने के बाद से चर्चा में