हमें मुगलों का नामो निशान देश से मिटा देना चाहिए, औरंगाबाद का नाम बदलकर छत्रपति शिवाजी महाराज के नामपर रखा जाए : राव मुशर्रफ अली

0
146

द लीडर। योगी सरकार के सत्ता में आने के बाद सीएम योगी ने कई जगहों के नाम बदले. वहीं अब राव मुशर्रफ का कहना है कि, हमें मुगलों का नामो निशान देश से मिटा देना चाहिए. वहीं, उन्होंने यह भी कहा कि, औरंगाबाद का नाम भी बदलना चाहिए और उसे छत्रपति शिवाजी महाराज के नामपर रखा जाना चाहिए.

सहारनपुर के देवबंद में रहने वाले मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के जिला संयोजक राव मुशर्रफ अली ने कहा है कि, दिल्ली के अंदर जो सड़कों के नाम अकबर, हुमायूं,औरंगजेब आदि मुगलों के नाम से हैं.


यह भी पढ़ें: BPSC Paper Leak: बिहार में जातीय जनगणना को मुद्दा बनाकर बीपीएससी पेपर लीक मामले को दबाया जा रहा – पप्पू यादव

 

उनके नाम बदलकर महाराणा प्रताप, छत्रपति शिवाजी, अब्दुल कलाम जैसे महापुरुषों के नाम होने चाहिए क्योंकि ये मुगल बादशाह हिंदुस्तान पर हमलावर रहे हैं. इन्होंने हमारे देश को लूटने का काम किया है.

छत्रपति शिवाजी महाराज के नामपर रखा जाए औरंगाबाद का नाम

राव मुशर्रफ का कहना है कि इन वजहों से ही हमें मुगलों का नामो निशान देश से मिटा देना चाहिए. वहीं, उन्होंने यह भी कहा कि, औरंगाबाद का नाम भी बदलना चाहिए और उसे छत्रपति शिवाजी महाराज के नामपर रखा जाना चाहिए.

यूपी के 12 शहरों के नाम बदलने का प्लान

जानकारी के लिए बता दें कि हाल ही में यूपी के 12 और शहरों के नाम बदलने का प्लान किया जा रहा है. इनमें अलीगढ़, फर्रुखाबाद, सुल्तानपुर, बदायूं, फिरोजाबाद और शाहजहांपुर का नाम शामिल है.

बताया जा रहा है कि, अलीगढ़ का नाम बदलने के लिए पिछले साल 6 अगस्त, 2021 को पंचायत कमेटी ने अपने नए अध्यक्ष विजय सिंह की अगुआई में नाम नए नाम का प्रस्ताव भी पारित किया था. अब इस जिले का नाम हरिगढ़ या फिर आर्यगढ़ रखने की तैयारी की जा रही है.

यूपी के इन जिलों का भी बदल सकता है नाम

वहीं फर्रुखाबाद के सांसद मुकेश राजपूत ने फर्रुखाबाद का नाम बदलकर पांचाल नगर करने की मांग की है. दरअसल, कहा जाता है कि यह जिला द्रौपदी के पिता द्रुपद पांचाल राज्य की राजधानी थी. इसीलिए इसका नाम पांचाल नगर रखने की मांग की गई है.

ऐसे ही सुल्तानपुर की लंभुआ सीट से बीजेपी विधायक रहे देवमणि द्विवेदी जिले का नाम बदलकर ‘कुशभवनपुर’ करने का प्रस्ताव सरकार को भेज चुके हैं. इतना ही नहीं, शाहजहांपुर का नाम भी ‘शाजीपुर’ रखने का सुझाव दिया गया है.


यह भी पढ़ें:  कोरोना महामारी के बीच ‘Tomato Flu’ का कहर : केरल में अब तक 82 बच्चे बीमार, जानिए क्या है इसके लक्षण ?