Uttarakhand : उत्तरकाशी के पुरोला में दिख रही आपसी रिश्ते बचाने की जुस्तजू

0
220

उत्तराखंड: उत्तरकाशी के पुरोला में एक सप्ताह से नफ़रती आवाज़ों के बाद आख़िरकार अब मुहब्बत की सदा सुनाई दी है. महापंचायत रद्द होने और कथित लव जिहाद की घटना को सबके अपने-अपने लफ़्ज़ों में बयां करने के बीच पुरोला से एक दिल छू लेना वाला वीडियो वायरल हुआ है. मुसलमानों के लिए एक हिंदू भाई अपनी कम्युनिटी के लोगों से भिड़ता दिखाई दे रहा है. आपको बता दें कि पुरोला में जिस तरह माहौल ख़राब हुआ था. लेकिन अब वहां तेज़ी से हालात बदल रहे हैं.

दरअसल, पुरोला में एक स्थानीय दुकानदार की नाबालिग़ बेटी को भगाने के प्रयास में दो युवकों के पकड़े जाने से माहौल गर्मा गया था. विरोध प्रदर्शन के बीच महापंचायत का एलान और मुस्लिम दुकानों पर 15 जून तक ख़ाली करने के पोस्टर चस्पा कर दिए गए. इससे बहुत से दुकानदार वहां से पलायन कर गए. इसकी गूंज देशभर में सुनाई देने लगी. बरेली में दरगाह आला हज़रत के पास स्थित आवास पर आल इंडिया इत्तेहाद-ए-मिल्लत काउंसिल के अध्यक्ष मौलाना तौक़ीर रज़ा ख़ान ने प्रेस कांफ्रेंस करके पुरोला की घटना पर सख़्त अल्फाज़ में नाराज़गी जाहिर की थी.

बहरहाल अब जिस तरह से प्रशासन और स्थानीय लोगों ने पहल की है. उसके बाद मु्स्लिम दुकानें खुलने लगी हैं. कपड़ा व्यापारी अशरफ़, सैलून चलाने वाले मुहम्मद सलीम और कास्टमेटिक का सामान बेचने वाले मुहम्मद रईस के वीडियो सामने आए हैं, जिसमें वो दुकानें खोलने के बाद ख़ुश दिखाई दे रहे हैं. मतलब यह कि नफ़रत की तेज़ हवाएं अपने पीछे लोगों को गहन चिंतन अपनी पहचान से हटने पर मलाल करते छोड़ गुज़र चुकीं हैं. अब कसक मिटाने के लिए मुहब्बत की सदाएं दी जा रही हैं.