बाइडेन बोले- चीन की मनमानी बर्दाश्त नहीं

0
109

 

वॉशिंगटन। अमेरिकी राष्ट्रपति पद संभालने के बाद व्हाइट हाउस के ईस्ट रूम में गुरुवार को पहली बार पत्रकारों के रूबरू हुए जो बाइडन की पहली चिंता तो कोविड रही लेकिन पर राष्ट्र संबंधों पर बात छेड़ते ही चीन उनके निशाने पर था।
बाइडन ने अपने सहयोगियों के साथ काम करते हुए चीन पर दबाव बनाने के संकेत दिए।
उन्होंने कहा कि हम नियमों का पालन कराने के लिए चीन को जिम्मेदार ठहराने जा रहे हैं, चाहे वह दक्षिण चीन सागर का मुद्दा हो या फिर उत्तरी चीन सागर का। हम ताइवान या दूसरी चीजों की पूरी सीरीज पर समझौते को लेकर भी चीन को मनमानी नहीं करने देंगे। उन्होंने कहा कि हम टकराव नहीं चाहते, हालांकि हम जानते हैं कि चीन के साथ हमारी कड़ी प्रतिस्पर्धा होगी।

शी और पुतिन एक जैसे

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग को लेकर बाइडेन ने कहा कि वह रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की तरह उन लोगों में से एक हैं जो निरंकुशता को भविष्य मानते हैं।
अगला चुनाव भी लड़ेंगे

जो बाइडेन ने उम्मीद जताई है कि वह 2024 के राष्ट्रपति चुनाव की रेस में भी उतरेंगे। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि हां, मेरी योजना फिर से चुनाव की रेस में उतरने की है। उम्मीद है कि ऐसा ही हो। उन्होंने यह उम्मीद भी जताई कि मौजूदा उपराष्ट्रपति कमला हैरिस उस चुनाव में भी उनकी रनिंग-मेट होंगी।

100 दिनों में 20 करोड़ का वैक्सीनेशन

बाइडेन ने कोरोना के खिलाफ टीकाकरण को और तेज करने का लक्ष्य तय किया है। उन्होंने कहा कि अब उनका लक्ष्य राष्ट्रपति की हैसियत से काम करते हुए अपने पहले 100 दिनों में 20 करोड़ लोगों को कोरोना का वैक्सीनेशन है। मैं जानता हूं कि यह हमारे मूल लक्ष्य का दो गुना है, लेकिन कोई दूसरा देश इसके करीब भी नहीं आ सका है।

प्रेस कॉन्फ्रेंस की अहम बातें

— अमेरिकी राष्ट्रपति ने बताया कि प्रशासन ने 1.9 ट्रिलियन डॉलर (13 हजार 807 अरब रुपए) के कोरोना राहत पैकेज के तहत लोगों के बैंक अकाउंट्स में 1400 डॉलर (1.1 लाख रुपए) के 10 करोड़ पेमेंट्स भेजे हैं। और भी लोगों को जल्द ही उनकी राहत राशि मिलेगी।

— अमेरिका-मैक्सिको बॉर्डर पर प्रवासियों की बढ़ोतरी और अपने प्रशासन की प्रतिक्रिया के बारे में कहा कि यह मौसमी है और हर साल होता है। उन्होंने उन दावों को खारिज किया कि इमीग्रेशन के मुद्दे पर उनका प्रशासन ट्रंप प्रशासन की तुलना में लचर है। उन्होंने कहा कि हम आने वाले परिवारों में से ज्यादातर को वापस भेज रहे हैं। हम इस पर मैक्सिको के साथ काम करने की कोशिश कर रहे हैं।

— अफगानिस्तान से अमेरिकी फोर्सेज को वापस बुलाने के बारे में बाइडेन ने कहा कि 1 मई की समयसीमा को पूरा करना मुश्किल होगा। बाइडेन ने ट्रंप प्रशासन के वक्त हुई डील को खराब तरीके से डिजाइन किया गया बताया।

— बैलिस्टिक मिसाइलों के लॉन्च के मद्देनजर उत्तर कोरिया की ओर से खतरे के बारे में एक सवाल के जवाब में बाइडेन ने कहा कि उत्तर कोरिया ऐसा करना जारी रखेगा तो उसको जवाब मिलेगा। उन्होंने कहा कि हम अपने सहयोगियों और पार्टनरों के साथ कंसल्ट कर रहे हैं और अगर वे आगे बढ़ना चाहते हैं तो प्रतिक्रियाएं होगी। हम उसी हिसाब से जवाब देंगे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here