यूपी निकाय चुनाव: यूपी निकाय चुनाव पर हाईकोर्ट के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटा सकती है यूपी सरकार

0
47

द लीडर हिन्दी: यूपी में नगर निकाय चुनाव में ओबीसी आरक्षण के बिना चुनाव कराने को लेकर हाईकोर्ट का फैसला आने के बाद राजनीतिक सगर्मियां तेज हो गई हैं। जहां एक ओर विपक्षी पार्टियों ने बीजेपी पर हमलावर हो गए हैं। वहीं यूपी नगर निकाय चुनाव में ओबीसी आरक्षण को लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच के फैसले को यूपी सरकार चुनौती दे सकती है।

जानकारी के मुताबिक, यूपी सरकार हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जा सकती है। दरअसल, इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने कहा कि राज्य में इस बार निकाय चुनाव बिना ओबीसी आरक्षण के होगा.इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ ने मंगलवार को राज्य सरकार के नगरीय निकाय चुनाव संबंधी मसौदा अधिसूचना को रद्द करते हुए उत्तर प्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव बिना ओबीसी आरक्षण के कराने का आदेश दिया।

न्यायमूर्ति देवेंद्र कुमार उपाध्याय और न्यायमूर्ति सौरभ लवानिया की पीठ ने यह आदेश दिया। इस फैसले से राज्य में शहरी स्थानीय निकाय चुनाव कराने का रास्‍ता साफ हो गया है। पीठ ने उत्तर प्रदेश में शहरी स्थानीय निकाय चुनाव में ओबीसी आरक्षण के लिए राज्य सरकार द्वारा पांच दिसंबर को तैयार मसौदा अधिसूचना को रद्द करते हुए निकाय चुनावों को बिना ओबीसी आरक्षण के कराने के आदेश दिए हैं।

राज्य सरकार ने पांच दिसंबर के अपने मसौदे में नगर निगमों की चार महापौर सीटें ओबीसी के लिए आरक्षित की थीं, जिसमें अलीगढ़ और मथुरा-वृंदावन ओबीसी महिलाओं के लिए और मेरठ व प्रयागराज ओबीसी उम्मीदवारों के लिए आरक्षित थे। दो सौ नगर पालिका परिषदों में अध्यक्ष पद पर पिछड़ा वर्ग के लिए कुल 54 सीटें आरक्षित की गयी थीं जिसमें पिछड़ा वर्ग की महिला के लिए 18 सीटें आरक्षित थीं। राज्य की 545 नगर पंचायतों में पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित की गयी 147 सीटों में इस वर्ग की महिलाओं के लिए अध्यक्ष की 49 सीटें आरक्षित की गयी थीं।

ये भी पढ़े:

यूपी निकाय चुनाव: ओबीसी आरक्षण के बगैर निकाय चुनाव होने को लेकर सपा ने बीजेपी पर बोला हमला

https://theleaderhindi.com/up-civic-polls-sp-attacks-bjp-for-holding-civic-polls-without-obc-reservation/