जल्द दो और टीकों की उम्मीद: बजट उद्घाटन भाषण में वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण

0
235

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कोरोना वायरस की महामारी का जिक्र करते हुए सोमवार को मोदी सरकार के केंद्रीय बजट 2021 को प्रस्तुत किया। उन्होंने कहा, यह बजट “पहले जैसी स्थितियों” में नहीं बनाया गया है।

वित्तमंत्री ने संसद को सूचित किया कि देश में वर्तमान में दो टीके हैं, जिनसे न केवल खुद बल्कि सौ और देशों की हिफाजत शुरू की गई है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जल्द ही दो और टीके भी तैयार होने की उम्मीद है।

“ऐसे संकेत हैं कि दुनियाभर में राजनीतिक रणनीतिक संबंध बदल रहे हैं,” वित्त मंत्री ने केंद्रीय बजट पेश करते हुए उद्घाटन भाषण में यह भी कहा।

उन्होंने कहा, “भारत में वैश्विक महामारी के चलते अब मृत्यु दर सबसे कम है और सबसे कम सक्रिय मामलों वाले देशों में से एक है। इससे नए विकास की नींव पड़ी है, जिसका असर हम अब अर्थव्यवस्था में देख रहे हैं।”

केंद्रीय बजट 2021 ऐसे समय में पेश किया जा रहा है जब कोरोना वायरस महामारी ने भारतीय और वैश्विक अर्थव्यवस्था को बुरी तरह प्रभावित किया है। महामारी की वजह से कई देशों की अर्थव्यवस्था पटरी से उतर गईं। महामारी के कारण व्यापार बंद हो गया है और नौकरी छूट गई है और आम आदमी खतरे में पड़ गया है।

यह वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार के तहत तीसरा बजट है। इस बजट की मुख्य विशेषता पेपरलेस होना है। बजट सत्र हंगामेदार होने की संभावना है क्योंकि विपक्ष कृषि कानूनों और भारतीय अर्थव्यवस्था के सामान्य मुद्दे पर सरकार को घेरने की तैयारी में है।

बीजेपी बजट 2021 को लेकर उत्साहित है। सरकार का मानना है कि इस बार का केंद्रीय बजट गेमचेंजर होगा। हालिया अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की रिपोर्ट में कहा गया है कि वर्ष 2021 में भारतीय अर्थव्यवस्था 11.5 प्रतिशत बढ़ेगी।

कृषि क्षेत्र

कृषि सुधारों और खेत कानूनों के खिलाफ हालिया आंदोलन के प्रकाश में, यह देखना दिलचस्प होगा कि सरकार कृषि क्षेत्र के लिए क्या घोषणा करती है। 26 जनवरी को लाल किले में किसान आंदोलन और उसके बाद हुई हिंसा ने कृषि क्षेत्र में मुद्दों को सामने ला दिया है।

ऑटोमोबाइल क्षेत्र

ऑटोमोबाइल सेक्टर को इस साल बजट से बहुत उम्मीदें होंगी। भारतीय सड़कों पर इलेक्ट्रिक वाहन को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार पहले ही उत्सुकता दिखा चुकी है। भारतीय बाजार में टेस्ला की एंट्री एक टॉकिंग पॉइंट साबित हो रही है। टाटा समूह ने हाल ही में इलेक्ट्रिक कार बाजार में प्रवेश करने की इच्छा व्यक्त की है।

बैंकिंग क्षेत्र

बैंकिंग क्षेत्र में अनिश्चितता बनी हुई है। यह देखना दिलचस्प होगा कि नॉन परफॉर्मिंग एसेट्स से निपटने के लिए सरकार क्या उपाय करती है। कोरोनावायरस महामारी के समय में बैंकों द्वारा ऋण देने में मंदी थी। विशेषज्ञ यहां तक कह रहे हैं कि सरकार सरकारी बैंकों से खराब संपत्ति खरीदने के लिए एक विशेष ‘बैड बैंक’ स्थापित करेगी

इनकम टैक्स स्लैब

आम आदमी करों के बारे में सबसे अधिक चिंतित है। इस साल क्या होगा? क्या टैक्स स्लैब बदले जाएंगे? सभी की निगाहें केंद्रीय बजट 2021 पर टिकी हैं।

रेलवे

पहले रेल बजट अलग से पेश किया जाता था। लेकिन अब, यह केंद्रीय बजट का हिस्सा है। महामारी वर्ष ने देश भर में यात्रा को धीमा और यहां तक कि पूरी तरह से रोक दिया है। यह निश्चित रूप से भारतीय रेलवे को नए तरीके से देखने का बजट हो सकता है। रेलवे के निजीकरण की प्रक्रिया कैसे और कितनी दिखाई देगी, ये बजट में स्पष्ट हो सकता है।

स्वास्थ्य सेवा

महामारी ने इस क्षेत्र के महत्व को रेखांकित किया है। उद्योग जगत के नेताओं को उम्मीद है कि सरकार इस क्षेत्र के लिए धन देकर विकास करेगी। यह बात भी महामारी के दौर में उठती रही कि स्वास्थ्य क्षेत्र को पूरी तरह सरकार को अपने हाथ में लेना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here