हमास का समर्थन करना ईरान के सुप्रीम नेता को पड़ा भारी, मेटा ने फेसबुक-इंस्टा अकाउंट किया बैन

0
73

द लीडर हिंदी : ईरान के सुप्रीम नेता अयातुल्ला खामनेई का फेसबुक-इंस्टा अकाउंट बैन हो गया है. गुरुवार को मेटा ने एलान किया कि उसने अपनी सामग्री नीति का उल्लंघन करने के लिए ईरान के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अली खामनेई के फेसबुक और इंस्टाग्राम अकाउंट बैन कर दिए हैं. वही मेटा के प्रवक्ता ने बताया, “हमने अपने खतरनाक संगठनों और व्यक्तियों से जुड़ी नीति का बार-बार उल्लंघन करने के लिए इन खातों को हटा दिया है.

बता दें जुकरबर्ग की कंपनी ने ईरान के सुप्रीम लीडर के खिलाफ ऐसा एक्शन लिया है. हालांकि इस दौरान मेटा ने इजरायल-हमास युद्ध का उल्लेख नहीं किया, लेकिन कंपनी पर 7 अक्टूबर को हमास द्वारा इजरायल पर हमले के बाद से नेता पर प्रतिबंध लगाने का दबाव था. हमले के बाद, खामेनेई ने हमास द्वारा खूनी भगदड़ का समर्थन किया, लेकिन किसी भी ईरानी भागीदारी से इनकार किया.

इसके साथ ही उन्होंने गाजा पर इजरायल की बमबारी के साथ-साथ यमन के हूती विद्रोहियों द्वारा लाल सागर में शिपिंग पर हमलों के खिलाफ फिलिस्तीनी प्रतिशोध का सार्वजनिक रूप से समर्थन किया है. बता दें अमेरिका की मेटा कंपनी अपने प्लेटफार्मों से “उन संगठनों या व्यक्तियों को हटा देता है जो हिंसक घोषणाएं करते हैं या हिंसा में लगे हुए हैं. वही ईरान में 35 साल से सत्ता पर काबिज खामनेई के इंस्टाग्राम पर 50 लाख फॉलोअर्स हैं.

मेटा ने कहा, “वास्तविक दुनिया के नुकसान को रोकने और बाधित करने के प्रयास में, हम उन संगठनों या व्यक्तियों को इजाजत नहीं देते हैं जो हिंसक मिशन की घोषणा करते हैं या हिंसा में लगे हुए हैं, हमारे प्लेटफार्मों पर उपस्थिति के लिए मेटा अपनी नीति के मुताबीक निर्णय लेता है.

वही मेटा ने कहा, “विभिन्न खतरनाक संगठनों और व्यक्तियों के महिमामंडन, समर्थन और प्रतिनिधित्व को साइट पर से हटा दिया जाता है” हमास को अमेरिका ने विदेशी आतंकवादी संगठन घोषित किया है. ईरान में इंस्टाग्राम और फेसबुक पर प्रतिबंध है लेकिन ईरानी प्रतिबंधों से बचने और प्रतिबंधित वेबसाइटों या एप तक पहुंचने के लिए वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क या वीपीएन का इस्तेमाल करते हैं. बतादें इजराइल और हमास में लगातार लड़ाई चल रही है. जिसका कई मुल्क साथ दे रहे है तो कई मुल्क इसके विरोध में है.