लालू की बेटी को राहत, जानिए किस मामले पर मीसा को मिली जमानत

0
14

द लीडर हिंदी : लालू यादव की बेटी मीसा भारती को शनिवार दानापुर कोर्ट से राहत मिली है.पाटलिपुत्र से लोकसभा के राजद प्रत्याशी और लालू प्रसाद की बड़ी बेटी मीसा भारती शनिवार को दानापुर के व्यवहार न्यायालय में पेश हुई. कड़ी सुरक्षा के बीच न्यायालय में उपस्थित हुईं. ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट के द्वारा सुनवाई के बाद उन्हें जमानत दे दी गई. बताया जा रहा है कि साल 2019 में चुनाव के दौरान मीसा भारती पर आचार संहिता के उल्लंघन का मामला मनेर थाना में दर्ज कराया गया था. तब से वह मामला लंबित था.बता दें प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने रेलवे की नौकरियों के बदले जमीन मामले में जो पहला आरोपपत्र दायर किया था, उसमें मीसा भारती का नाम था.

मीसा को दस हजार रुपए मुचलके पर मिली जमानत
इस मामले में कोर्ट ने मीसा भारती को उपस्थित होने का आदेश दिया था. दोनों पक्ष की दलीलें सुनने के बाद कोर्ट ने मीसा भारती को दस हजार रुपए मुचलके पर उन्हें न्यायालय द्वारा जमानत दे दी गई. न्यायालय से बाहर निकालने के क्रम में पत्रकारों ने जब उनसे बात करना चाहा तो मीसा भारती बिना कुछ बात किए अपने गाड़ी पर बैठकर वहां से निकलती बनी.

आपको बता दें प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने रेलवे की नौकरियों के बदले जमीन मामले में जो पहला आरोपपत्र दायर किया था, उसमें मीसा भारती का नाम था. बता दें कि लालू प्रसाद की बेटी मीसा भारती राजद के टिकट पर चुनाव लड़ने की बात सामने आ रही है.हालांकि वह दो बार यहां से बीजेपी के रामकृपाल यादव से चुनाव हार चुकी हैं. दो बार लालू प्रसाद ने उन्हें राज्य सभा भी भेजा. इस सीट पर राजद विधायक रीतलाल यादव और विधायक भाई वीरेन्द्र की भी दावेदारी रही है.रीतलाल यादव इस सीट से चुनाव लड़ने की इच्छा भी जता चुके हैं.

पाटलिपुत्र लोकसभा सीट से राजद की प्रत्याशी मीसा भारती आज दानापुर व्यवहार न्यायालय के जेएम फर्स्ट क्लास एडीडीएल मुंसिफ थर्ड प्रिया कुमारी के सामने पेश हुईं थी. जहां सुनवाई करते हुए कोर्ट ने 10 हजार के मुचलके पर उन्हें जमानत दे दी. बता दें कि साल 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान मनेर में रोड शो करते समय आचार संहिता उल्लंघन का मामला दर्ज हुआ था. मीसा भारती पर 20 से 25 चार पहिया वाहन, 50 से अधिक बाइक और झंडा के साथ करीब 500 से ज्यादा लोगों के साथ बिना अनुमति के रोड शो करने का आरोप है.

ये भी पढ़ें-https://theleaderhindi.com/mukhtar-ansari-passed-away-but-why-did-azam-khan-come-into-limelight/