‘प्रधानमंत्री ने चीन को सौंपी हिंदुस्तान की जमीन’-राहुल के आरोपों पर नकवी की अशोभनीय टिप्पणी

Prime Minister India Land China

द लीडर : भारत-चीन सरहद विवाद को लेकर कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi)  पर कड़े प्रहार किए हैं. उन्होंने कहा कि ‘प्रधानमंत्री डरपोक हैं, जो चीन (China) के खिलाफ खड़े नहीं हो सकते. हमारे जवानों की शहादत को नजरंदाज कर रहे हैं. सेना के बलिदान को धोखा दे रहे हैं. भारत में किसी को ऐसा करने की इजाजत नहीं दी जानी चाहिए. प्रधानमंत्री इस पर क्यों नहीं बोल रहे.’ (Prime Minister India Land China)

राहुल गांधी ने सवाल उठाया कि ‘मोदी ने भारत की जमीन चीन को क्यों दे दी? उन्हें, और रक्षा मंत्री को इसका जवाब देना चाहिए. क्यों, सेना को कैलाश रेंज से पीछे हटने को कहा गया? देपसांग प्लेंस से चीन वापस क्यों नहीं गया? हमारी जमीन फिंगर-4 तक है.


पूर्व चीफ जस्टिस गोगोई ने क्यों कहा कि मनमाफिक फैसले नहीं दिए तो आप पर अटैक करेंगे!


 

मोदी ने फिंगर-3 से फिंगर-4 की जमीन चीन को सौंप दी है. पीएम ने हिंदुस्तान की जमीन चीन को पकड़ाई है-ये एक सच्चाई है. मोदी जी ने चीन के सामने सिर झुका दिया. जो रणनीतिक क्षेत्र है, जहां चीन अंदर आकर बैठा है. रक्षामंत्री ने उस बारे में एक भी शब्द नहीं बोला.’

 

शुक्रवार को राहुल गांधी ने इन गंभीर आरोपों के साथ सरकार पर गंभीर सवाल उठाए हैं. दरअसल, गुरुवार को रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने संसद में बताया था कि भारत-चीन सीमाओं से दोनों देशों की सेनाएं अपने निर्धारित स्थान के लिए पीछे हटने लगी हैं. सीमा का मुद्​दा बातचीत के जरिये ही हल हो सकता है. उन्होंने स्पष्ट किया था कि हम अपनी एक इंच भी जमीन किसी को लेने नहीं देंगे.


पैंगोंग झील से पीछे हटेंगी सेनाएं, रक्षामंत्री बोले हम अपनी एक इंच भी जमीन किसी को लेने नहीं देंगे


 

दो दिन पहले ही चीन के ग्लोबल टाइम्स ने भारत-चीन सीमा से सैनिकों के पीछे हटने से जुड़ी खबर प्रकाशित की थी. इसके बाद गुरुवार को भारतीय रक्षामंत्री ने भी बताया कि सेनाएं पीछे हटना शुरू हो गई हैं.

इसी को लेकर राहुल गांधी ने सरकार पर ये सवाल उठाए हैं. राहुल के आरोपों के बीच केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी की प्रतिक्रिया आई है. समाचार एजेंसी एएनआइ से बातचीत में नकवी ने राहुल गांधी के लिए कुंदबुद्धि पप्पू जी-जैसे शब्दों का उपयोग करते हुए अशोभानीय टिप्पणी की है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *