पोस्टर ने उड़ाई अखिलेश की नींद : आखिर क्या है इस पोस्टर का मतलब ?

0
137

लखनऊ। मुरादाबाद में पत्रकारों पर हुए हमले का मामला थमने का नाम नहीं ले रहा, जहां पहले पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर मुकदमा लिखा गया उसके बाद सपा के जिला अध्यक्ष की तरफ से पत्रकारों के खिलाफ भी मुकदमा लिखाया गया था लेकिन अब यह मामला राजधानी लखनऊ की सड़कों पर नजर आ रहा है ।

दूसरी तरफ इस मामले में मुलायम परिवार भी एकजुट नज़र आ रहा है । पहले रामगोपाल यादव और अब शिवपाल यादव ने भी अखिलेश यादव के खिलाफ मुकदमा लिखाए जाने का विरोध किया है।

यह भी पढ़े – डोईवाला में गरजे नरेश टिकैत, टोल प्लाजा फ्री कराया

राजधानी लखनऊ के 1090 चौराहे पर कई पोस्टर लगाए गए है जिसमें पूर्व मुख्यमंत्री और वर्तमान मुख्यमंत्री दोनों की फोटो एक साथ दिखाते हुए यह दर्शाया गया कि वर्तमान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के मुकदमे हटाए गए और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर मुकदमे लगाए गए । साथ ही पोस्टर में मुकदमों की धाराओं का भी विवरण दिया गया है। वहीं एक लाइन भी लिखी गयी

” जिनके चेहरे पर लिखी थी जेल की ऊँची फ़सील,रामनामी ओढ़कर संसद के अन्दर आ गए।”

बीते दिनों मुरादाबाद में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पत्रकारों से मारपीट और अभद्रता करने का अखिलेश यादव पर आरोप लगा था जिसके बाद यह मामला लगातार तूल पकड़ता जा रहा है जहां अखिलेश यादव ने पहले ही ट्वीट कर राजधानी लखनऊ में होर्डिंग लगवाने की बात की थी तो अब लखनऊ में होर्डिंग नजर भी आ रही है।

यह भी पढ़े – पश्चिम बंगाल में तृणमूल से ही नहीं, इस आंदोलन से हो रहा भाजपा का सामना

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here