नंदीग्राम – बंगाल की सियासत का नया तूफ़ान

0
146

लखनऊ | पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में इस बार नंदीग्राम सबसे हॉट सीट रहेगी। यहां मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के खिलाफ भाजपा ने शुभेंदु अधिकारी को उतारा है। शुभेंदु तृणमूल छोड़कर भाजपा में आए हैं और ममता के राइट हैंड रहे हैं।एक दौर था जब शुभेंदु ममता के साथ चुनाव लड़कर टीएमसी को जीत दिलवाते थे, लेकिन इस बार हवा ने रुख बदला हुआ है। नंदीग्राम शुभेंदु का गढ़ है और ममता उनके सामने हैं। नंदीग्राम ममता की राजनीति का भावनात्मक पड़ाव है।

यह भी पढ़े – ममता ने लगाए पीएम मोदी पर यह आरोप, आप भी जानें…

फिलहाल नंदीग्राम बंगाल के संग्राम का सबसे बड़ा मैदान बन गया है। ममता, शुभेंदु को नंदीग्राम के चक्रव्यूह में घेर रही हैं, या खुद उसी में उलझ रही हैं, ये राजनीति के विश्लेषण का विषय है, लेकिन तय है कि नंदीग्राम का मुकाबला सबसे रोमांचक होने जा रहा है।

पश्चिम बंगाल के नंदीग्राम में 2007 में तत्कालीन वाम मोर्चे की सरकार के खिलाफ भूमि अधिग्रहण ममता के आंदोलन को शुभेंदु ने ही रणनीति दी थी। आंदोलन ने वाम मोर्चे की सरकार को चरमरा कर रख दिया। शुभेंदु अधिकारी ने वाम सरकार के खिलाफ लोगों को एकजुट करते हुए आंदोलन के चेहरे के रूप में ममता बनर्जी को चमका दिया। इस चमक ने बंगाल की सत्ता में टीएमसी की एंट्री कराई।

इस तरह शुभेंदु ने जीती नंदीग्राम सीट
2016 के विधानसभा चुनाव में शुभेंदु पूर्वी मेदिनीपुर जिले की नंदीग्राम सीट से चुनाव में उतरे। शुभेंदु ने सीपीआई के अब्दुल कबी को शिकस्त दी। शुभेंदु को 1 लाख 34 हजार 623 वोट मिले जबकि अब्दुल कबी को महज 53 हजार 393 वोट ही मिले। जीत का अंतर 40.3 फीसदी का था। इस जीत के इनाम के तौर पर शुभेंदु को कैबिनेट मंत्री का पद दिया गया। कई महत्वपूर्ण जिम्मेदारियों के साथ शुभेंदु टीएमसी को बंगाल में मजबूत करने में जुट गए। फिर अचानक एक-एक कर उन्हें झटके मिलने लगे। पार्टी में ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी का कद बढ़ाया जाने लगा। वहीं, दूसरे नंबर पर रहे शुभेंदु को यह उपेक्षा लगने लगा। प्रशांत किशोर के बढ़ते प्रभाव को लेकर जब शुभेंदु ने सवाल उठाए तो उन्हें कई पदों से हटा दिया गया। शुभेंदु ने टीएमसी का साथ छोड़ दिया।

यह भी पढ़े – कैप्टन ने महिलाओं को दिया एक ख़ास तोहफा

दिलचस्प होगा आमने सामने का मुकाबला
आने वाले विधानसभा चुनाव में नंदीग्राम की सीट पर कौन बाहुबली बन कर उभरता हैं और किसको मात मिलती हैं। दो लोकप्रिय नेता और TMC की रीढ़ की हड्डी माने जाने वाले शुभेन्द्र अब ममता के सामने खड़े हैं और खुद उनके गढ़ में बंगाल की मुख्यमंत्री ममता खड़ी हैं। कुलमिलाकर नंदीग्राम हॉट सीट बन चुकी है और यही बंगाल चुनाव का सबसे बड़ा सियासी घमासान होने वाला है।

आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here