Maharashtra : औरंगजेब की कब्र के आसपास बढ़ाई गई सुरक्षा, बीजेपी-MNS ने कब्र उखाड़ फेंकने की दी थी धमकी, जानें पूरा मामला ?

0
219

द लीडर। बीजेपी और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (MNS) ने बुधवार को जहां मुगल बादशाह औरंगजेब की कब्र को उखाड़ने के आह्वान किया. उसके बाद खुल्दाबाद में औरंगजेब की कब्र के आसपास सुरक्षा कड़ी कर दी गई है.

मनसे कार्यकर्ता गजानन काले ने मंगलवार को जहां औरंगजेब की कब्र को संरक्षित करने की आवश्यकता पर सवाल उठाया था, वहीं अब बीजेपी एमएलसी प्रसाद लाड ने इसे हटाने के संबंध में चेतावनी दी है. बता दें कि यह कब्र औरंगाबाद और उसके आसपास के प्रमुख पर्यटक आकर्षणों में से एक है.

कब्र के चारों बढ़ाया गया सुरक्षा घेरा

कब्र के लिए संभावित खतरों के मद्देनजर, महाराष्ट्र पुलिस और भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) ने साइट पर अतिरिक्त गार्ड और एक वैन तैनात की है, हालांकि इसका परिसर अभी भी जनता के लिए खुला है.


यह भी पढ़ें: Satyendra Singh murder case : पटना हाईकोर्ट ने पूर्व सांसद विजय कृष्ण को किया बरी, सिविल कोर्ट से मिली थी उम्रकैद

 

लाड ने अतिरिक्त सुरक्षा तुरंत हटाने की मांग करते हुए पूछा कि क्या यह मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का ‘हिंदुत्व ब्रांड’ है, जबकि हनुमान चालीसा का जाप करना देशद्रोह माना जा रहा है.

कब्र को सुरक्षा प्रदान कर रहे सीएम

लाड ने सवाल दागते हुए कहा कि, यह वहीं औरंगजेब था, जिसने छत्रपति संभाजी महाराज (छत्रपति शिवाजी महाराज के पुत्र) को मार डाला था और मस्जिदों के निर्माण के लिए हिंदू मंदिरों को ध्वस्त कर दिया था. अब, सीएम औरंगजेब की कब्र को सुरक्षा प्रदान कर रहे हैं. ये सोनिया गांधी-शरद पवार वाली हिंदुत्व की शैली है या फिर दिवंगत बालासाहेब ठाकरे वाला हिंदुत्व है?”

औरंगजेब की कब्र को बनाए रखने की आखिर क्या जरूरत है ?

उन्होंने राज्य सरकार से नए सुरक्षा उपायों को तुरंत समाप्त करने का आह्वान किया और मुगल सम्राट की कब्र को उखाड़ने पर जोर दिया. इससे पहले, मनसे के काले ने आश्चर्य जताया था कि, औरंगजेब की कब्र को बनाए रखने की आखिर क्या जरूरत है. उन्होंने कहा कि, इसे हटाया जाना चाहिए, जैसा कि शिवसेना के संस्थापक (बालासाहेब ठाकरे) भी चाहते थे.

केंद्र के हाथों में एएसआई, प्रवेश करें प्रतिबंधित

काले ने एआईएमआईएम नेता और तेलंगाना के विधायक अकबरुद्दीन ओवैसी द्वारा हाल ही में वहां की यात्रा के परोक्ष संदर्भ में बात करते हुए कहा कि यदि कब्र को ध्वस्त कर दिया जाता है, तो कोई भी वहां पर नहीं जाएगा.

कांग्रेस महासचिव सचिन सावंत ने कहा कि, चूंकि एएसआई केंद्र से संबंधित है, इसलिए बीजेपी-मनसे नरेंद्र मोदी सरकार से औरंगजेब की कब्र पर प्रवेश को प्रतिबंधित करने के लिए क्यों नहीं कह रही है.

ओवैसी को कब्र में दफनाने की धमकी

उन्होंने कई बीजेपी नेताओं की तस्वीरें और वीडियो भी पेश किए, जो अतीत में कब्र पर जाकर प्रार्थना कर चुके हैं, लेकिन अब पार्टी उन पर चुप है. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार ने पूछा है कि, क्या बीजेपी-मनसे महाराष्ट्र में औरंगजेब की कब्र को लेकर नया विवाद खड़ा करने की कोशिश कर रहे हैं. कुछ बीजेपी-मनसे नेताओं ने अकबरुद्दीन ओवैसी को औरंगजेब की कब्र के बगल में एक कब्र में दफनाने की धमकी भी दी है.


यह भी पढ़ें:  Pegasus Probe : सुप्रीम कोर्ट ने पेगासस मामले में जांच कमेटी को दिया और वक्‍त, अब जुलाई में होगी अगली सुनवाई