अमरीकी नस्लवाद बनाम भारतीय जातिवाद

0
439
Indian Caste problem vs America’s Racism
ट्रायवान मार्टिन
  • मनीष आज़ाद

26 फरवरी की रात 2012 को अमेरिका के ‘फ्लोरिडा’ नामक शहर में ‘ट्रायवान मार्टिन’ नामक व्यक्ति को ‘जिम्मरवान’ नामक व्यक्ति ने गोली मार दी. मार्टिन की मौके पर ही मौत हो गयी. इस घटना का खास एंगल यह था कि मरने वाला ‘ब्लैक’ था और मारने वाला ‘गोरा’ व्यक्ति था. (Indian Caste problem vs America’s Racism)

घटना के बाद जिम्मरवान को गिरफ्तार कर लिया गया. लेकिन आश्चर्यजनक रूप से महज पांच घंटे बाद ही छोड़ दिया गया. कहा गया कि उनके पास कोई सबूत नही है. इसके बाद अमरीका के कई शहरों में विशेषकर ब्लैक्स के और मानवाधिकार संगठनों के बड़े बड़े प्रदर्शन हुए. तब जाकर जिम्मरवान के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है. और इसी 13 जुलाई को कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया और जिम्मरवान को इस आधार पर बरी कर दिया कि उसने आत्मरक्षा में मार्टिन पर गोली चलायी. जबकि मुकदमे के दौरान खुद कोर्ट ने भी यह माना कि मार्टिन निहत्था था, जबकि जिम्मरवान के पास हथियार था.

इस घटना ने एक बार फिर इस बहस को तेज कर दिया कि दुनिया के ‘सबसे विकसित देश और सबसे पुराने लोकतंत्र’ में नस्लवाद अभी भी कितनी गहराई तक घंसा हैं.

इन सब खबरों से गुजरते हुए कई संदर्भ दिमाग में आने लगे. अमरीकी जेलों में काले लोगों की संख्या अपने जनसंख्या अनुपात से कही अधिक है.

ब्लैक्स के लोकप्रिय नेता ‘मुमिया अबू जमाल’ पिछले 20 सालों से जेल में है. पूरी दुनिया में उनके समर्थन में आवाजें उठ रही है. लेकिन उन्हे अभी तक रिहा नही किया गया है.

इसी संदर्भ में बहुत पहले पढ़ी एक किताब शिद्दत से याद आयी. 1961 में प्रकाशित इस किताब का नाम है — ब्लैक लाइक मी. इसके लेखक हैं ‘जान हावर्ड ग्रीफिन’. ब्लैक्स के साथ सहानुभूति रखने वाले ग्रीफिन उनके बीच रहकर उनकी वास्तविक स्थिति जानना चाहते थे. लेकिन उनकी गोरी चमड़ी इसमें बाधक थी. इस बाधा को दूर करने के लिए उन्होने नायाब लेकिन जोखिम भरा रास्ता निकाला. यह रास्ता था — मेडिकल साइन्स के सहयोग से अपनी चमड़ी का रंग काला कर लेना और फिर कुछ समय के लिए उनके बीच बस जाना. उनके दोस्त मित्रों ने उन्हें इसके सामाजिक और शारीरिक खतरों से आगाह कराया. लेकिन वे अपनी जिद पर अड़े रहे. अंततः उन्होंने कालों के बीच कालों की तरह रहकर उस जलालत और अपमान को सीधे महसूस किया जो काले लोग सदियों से सहते आ रहे थे. इसके बाद अपने इसी अनुभव के आधार पर उन्होंने बहुत ही मर्मस्पर्शी किताब लिखी- ‘ब्लैक लाइक मी.’

Indian Caste problem vs America’s Racism

इस किताब के माध्यम से दुनिया को जब लेखक के इस ‘प्रोजेक्ट’ के बारे में पता चला तो गोरे लोगों और काले लोगों के बीच उनके समान रूप से दुश्मन पैदा हो गये. गोरों को लगा कि कालों के बीच काले के रूप में रहकर ग्रीफिन ने सभी गोरों का अपमान किया है. दूसरी ओर कुछ काले लोगों को लगा कि ग्रीफिन ने अपना रंग छुपा कर उन्हें धोखा दिया है और उन्हें अपमानित किया है.

इसी किताब पर आधारित इसी नाम से फिल्म भी बनी है. इस फिल्म के अंतिम दृश्य में इस बहस के दौरान लेखक कहता है कि उसने यह ‘प्रोजक्ट’ सिर्फ अपने लिए किया है. उसे हक है यह जानने का कि देश की इतनी बड़ी आबादी आखिर किन स्थितियों में अपना जीवन गुजारती है.

भारत में जाति समस्या की तुलना अक्सर अमरीका के इस नस्लवाद से की जाती है. वहां के ‘ब्लैक पैंथर’ की तर्ज पर यहां ‘दलित पैंथर’ भी बन चुका है. लेकिन उपरोक्त घटना के संदर्भ में मैं सोच रही थी कि क्या यहां कोई यह प्रयोग कर सकता है. यहां तो आपकी पहचान आपकी जाति से है. चमड़ी का रंग तो बदला जा सकता है लेकिन जाति कैसे बदली जायेगी. यहां तक कि धर्म परिवर्तन के बाद भी जाति का साथ नहीं छूटता. यानी जाति तो आप इस जनम में तो क्या सात जनम में भी नहीं बदल सकते. इस सन्दर्भ में एक रोचक प्रसंग संजीव के उपन्यास ‘सूत्रधार’ में आया है. भिखारी ठाकुर सपना देखते हैं कि अगले जन्म में वे ब्राह्मण हो गये हैं और उनका खूब आदर सत्कार हो रहा है. एक जजमान के यहां से जब वे दान दक्षिणा लेकर निकल रहे थे, तभी दरवाजे तक छोड़ने आये जजमान ने भिखारी ठाकुर के कान में कुछ कहा और उस वाक्य को सुनते ही भिखारी ठाकुर की नींद खुल गयी. जजमान ने उनके कान में कहा था – ‘का हो पिछले जनम में त तू नाई रहलअ न!’

कृति मेरे मन की ब्लॉग से साभार

आवारा भीड़ के खतरे 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here