एक हफ्ते से धधक रहा ग्रीस का एविया द्वीप, 586 जगह पर लगी भयावह आग

0
507

द लीडर हिंदी। जहां एक तरफ भारत के कई इलाके बाढ़ के पानी में डूबे है तो वहीं ग्रीस का एविया द्वीप पिछले एक हफ्ते से धधक रहा है. यहां 3 अगस्त को जंगल में लगी आग आसपास के 141 गांवों में फैल गई. आगजनी के बाद से अब तक यहां 63 रेस्क्यू ऑपरेशन चलाकर 2700 लोगों को रेस्क्यू किया जा चुका है. 2 की मौत हुई है. मरने वालों में एक बुल्डोजर ड्राइवर शामिल है. 2 की वॉलेंटियर्स की हालत अभी भी नाजुक बनी हुई है.

यह भी पढ़ें: 80 साल बाद होगा कुछ ऐसा… पानी में डूब जाएंगे भारते के ये शहर

बता दें कि, पिछले हफ्ते तीन दशकों में इस साल ग्रीस ने सबसे भीषण गर्मियों के मौसम के सामना किया है। जिसके चलते उच्च तापमान और सूखी गर्मी के कारण जंगलों में आग लगी. यूरोपीय देश ग्रीस के एविया द्वीप में 3 अगस्त को जंगल में लगी आग देखते ही देखते आसपास के 141 गांवों में फैल गई है. जिससे कई लोग झुलस गए. इसके साथ ही कई ने दम तोड़ दिया. जानवरों का भी यहां बुरा हाल है.

यह भी पढ़ें:  हिमाचल: किन्नौर में भूस्खलन, मलबे में दबी बस और कार, 40 से ज्यादा लोग फंसे

देश के चारों ओर 586 जगह जंगलों में आग

प्रधानमंत्री क्यारीकोस मित्सोटाकिस कहा कि, ग्रीस अभूतपूर्व रूप से प्राकृतिक आपदा का सामना कर रहा है. देश के चारों ओर 586 जगह जंगलों में आग लगी हुई है. प्रधानमंत्री क्यारीकोस मित्सोटाकिस ने कहा कि, ग्रीस अब तक की सबसे खराब हीटवेव का सामना कर रहा है. देशभर में दमकलकर्मी जंगलों में लगी आग को बुझाने के लिए कड़ी मशक्कत कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें:  प्रधानमंत्री के उज्ज्वला योजना लॉन्च करते ही कांग्रेस ने कसा तंज : कही यह बात

हीटवेव की वजह से राहत कार्यों में बाधा

बड़े स्तर पर हीटवेव की वजह से राहत कार्यों में बाधा पैदा हो रही है. जंगल में लगी आग ने पिछले एक हफ्ते में सैकड़ों घरों को नष्ट कर दिया और दर्जनों गांवों को खाली करने के लिए लोगों को मजबूर किया है. पर्यावरण अधिकारियों ने चेतावनी दी है कि, लगातार सूखे की मार झेल रहे दक्षिणी यूरोप पर जलवायु परिवर्तन का सबसे ज्यादा जोखिम है. अग्निकांड के बाद राहत कार्य में लगे अधिकारियों ने बताया कि, इविया पर फसे लोगों के निकालने के लिए सबसे ज्यादा संघर्ष करना पड़ा है. क्योंकि, इलाके में घने धुएं के कारण विमान का संचालन करना मुश्किल हो रहा है.

यह भी पढ़ें:  वैक्सीन की दो डोज लेने के बाद भी हो रहा ‘ब्रेकथ्रू इन्फेक्शन’, केरल में बढ़े मामले

हजारों लोगों को मजबूरन अपने घर छोड़ने पड़े

एथेंस के बाहरी इलाके माउंट पार्थिना की तलहटी में लगी आग के कारण, हजारों लोगों को मजबूरन अपने घर छोड़ने पड़े. साथ ही बड़े पैमाने पर इलाके में व्यवसायों के साथ हजारों हेक्टेयर जंगल को नुकसान पहुंचा है. पिछले हफ्ते तीन दशकों में इस साल ग्रीस ने सबसे भीषण गर्मियों के मौसम के सामना किया है. जिसके चलते उच्च तापमान और सूखी गर्मी के कारण जंगलों में आग लगी. फिलहाल, बीते दिनों की तुलना में तापमान में कुछ गिरावट आई है, लेकिन इस सप्ताह के दौरान गर्मी फिर से बढ़ने की आशंका जाहिर की गई है.

यह भी पढ़ें:  जानिए क्या है सीएस पिटाई मामला जिसपर आज आरोप मुक्त हुए CM केजरीवाल

जंगल की आग से लोगों को परेशानी

कुछ लोगों को सांस लेने में मुश्किल हो रही है क्योंकि हवा में इतना धुआं और राख है. कथित तौर पर इविया द्वीप पर लोग हाई अलर्ट पर हैं और काफी परेशानी भी है. लोगों में यह भावना भी है कि, अधिकारी उन्हें निराश कर रहे हैं और पर्याप्त मदद नहीं कर रहे हैं, हालांकि, सरकार का कहना है कि वह वह सब कर रही है जो वह कर सकता है.

मदद के लिए ग्रीस के आह्वान का देशों ने जवाब दिया

जर्मनी, फ्रांस और यूके सहित कई देशों ने मदद के लिए ग्रीस के आह्वान का जवाब दिया है. यूरोपीय संघ ने कहा कि, सदस्य देशों ने ग्रीस में 9 विमान, करीब 200 वाहन और 1,000 अग्निशामक तैनात किए हैं. ग्रीस के प्रधान मंत्री ने भी उन देशों के प्रति हार्दिक आभार व्यक्त किया जिन्होंने सहायता भेजी थी और इन कठिन समय के दौरान ग्रीस के साथ खड़े होने के लिए देशों को धन्यवाद दिया.

यह भी पढ़ें:  दूसरी लहर पर राज्यों ने दी रिपोर्ट, सिर्फ इस राज्य ने मानी की ऑक्सीजन की कमी से हुई थी मौतें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here