फिर दर्ज हुए कोरोना के रिकॉर्ड मामले, 4 राज्यों पर खतरा गंभीर

0
78

नई दिल्ली कोरोना वायरस की दूसरी लहर हर दिन नए रिकॉर्ड बना रही है। इसी बीच महाराष्ट्र के अलावा देश के तीन और राज्य कोविड-19 के हॉटस्पॉट के तौर पर उभरते हुए नजर आ रहे हैं। उधर बीते 24 घंटों में देश भर में तकरीबन 40 हजार नए केस सामने आए हैं।

महाराष्ट्र के अलावा पंजाब, हरियाणा और मध्य प्रदेश तीन राज्यों में स्थिति खराब हो रही है. इन तीनों राज्यों पर बीमारी का अगला हॉटस्पॉट बनने का खतरा मंडरा रहा है। पूर्वी इलाकों के मुकाबले देश के पश्चिमी इलाकों में मामले ज्यादा तेजी से बढ़ रहे हैं। महाराष्ट्र में हालात बेहद चिंताजनक बने हुए हैं। देश के कई राज्यों में सरकार कोविड नियम कड़े कर रही है। कई जिलों में नाइट कर्फ्यू की घोषणा की जा चुकी है। हाल ही में गुजरात सरकार ने राज्य के 8 बड़े शहरों में स्कूलों में जारी ऑफलाइन क्लासेज 10 अप्रैल तक बंद करने का फैसला लिया है।

ये भी पढ़े – कोरोना की दूसरी लहर पहली से ज़्यादा तेज़,मास्क लगाने के सरकारी आदेश

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, देश में अब तक 1 करोड़ 10 लाख 83 हजार 679 लोग रिकवर हो चुके हैं, जबकि इस समय 2 लाख 71 हजार 282 एक्टिव केस हैं. देश में मृतकों की संख्या बढ़कर अब 1 लाख 59 हजार 370 हो गई है।

महाराष्‍ट्र में बेकाबू कोरोना के आंकड़े डराने लगे हैं. राज्‍य में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 25,833 नए मामले सामने आए हैं, जबकि 58 मरीजों को जान चली गई है। देश में पिछले 24 घंटे में कारोना वायरस संक्रमण के 39,726 नए मामले सामने आए हैं, जबकि 159 लोगों की मौत हुई है। आईसीएमआर के मुताबिक, देश में पिछले 24 घंटे के अंदर 10,57,383 कोरोना जांच की गई है।

दिल्ली में गुरुवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 607 नए मामले सामने आए जो कि पिछले लगभग ढाई महीने में सबसे ज्यादा है। उधर गुजरात में बृहस्पतिवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 1,276 नए मामले सामने आए, जिसके बाद कुल मामले बढ़कर 2,82,449 हो गए।

बिहार में तेज रफ्तार से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने बड़ा फैसला लिया है और 5 अप्रैल तक डॉक्टर से लेकर अधिकारी और सभी स्वास्थ्यकर्मियों की छुट्टियां रद्द कर दी गई है। स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव ने गुरुवार को अधिकारियों के साथ बैठक कर आदेश जारी किया है कि 5 अप्रैल तक डॉक्टर, संविदा डॉक्टर, मेडिकल ऑफिसर, अधीक्षक, प्राचार्य, निदेशक प्रमुख, जूनियर रेजिडेंट, सीनियर रेजिडेंट, पारा मेडिकल कर्मी, जीएनएम, एएनएम कर्मियों की सभी छुट्टियां रद्द रहेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here