कहीं उल्टा न पड़ जाये बजरंग पुनिया का दांव, अगर ऑडियो हुआ सही तो जायेंगे जेल?

0
141

Wrestlers Protest Against WFI Chief: जंतर मंतर पर बैठे पहलवानों और भारतीय कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के बीच का विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा। एक तरफ जहां पहलवानों के मंच पर सियासी लोगों का पहुंचना जारी है तो दूसरी तरफ बृजभूषण शरण सिंह अपने आप को लगातार निर्दोष बता रहे है। साथ ही वो इस पुरे प्रकरण को कांग्रेस और कुछ लोगों की साजिश  बता रहे हैं।

बृजभूषण सिंह ने कांग्रेस और बजरंग पुनिया का बताया हाथ 

यौन शोषण के आरोपों में घिरे भारतीय कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह ने सीधे तौर पर कहा है कि कांग्रेस और बजरंग पुनिया उनके खिलाफ साजिश रच रहे हैं। जिससे उनके पास सबूत हैं। उनका कहना है कि ये पहलवानों का विरोध प्रदर्शन किसी साजिश का हिस्सा है।

बृजभूषण शरण सिंह का कहना है कि साजिश को साबित करने के लिए उनके पास एक ऑडियो क्लिप है । जिसे वो जांच कमेटी को सौपेंगे। सांसद का दावा है कि ऑडियो में बजरंग पुनिया एक महिला से बात कर रहे हैं और उससे कह रहे हैं। किसी भी तरीके से किसी भी कीमत पर कोई लड़की उपलब्ध कराओ।

वहीं बृजभूषण शरण सिंह जिस तरह से दावा कर रहे हैं कि बजरंग पुनिया साजिश में शामिल है जिसकी उनके पास आडियो है। उस हिसाब से अब अगर ये आडियो जांच में सही पाई जाती है तो बजरंग पुनिया की भी मुश्किलें बढ़ सकती है क्योंकि अगर वो इस तरह की जांच में फसेंगे तो उनका कैरियर चौपट हो सकता है और वो जेल भी जा सकते हैं। अब ये देखने वाला होगा कि जांच में क्या निकल कर आता है? लेकिन ये बात तो तय है। अब ये विवाद इस स्थित में पहुँच गया है कि इससे किसी न किसी का तो भारी नुकसान जरुर होगा।

कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष पर है यौन शोषण का आरोप 

वहीं आपको बताते चलें, कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष पर यौन शोषण के आरोपों को लेकर देश के नामी पहलवानों ने 23 अप्रैल को जंतर मंतर पर धरना शुरू किया था। इसके पहले जनवरी में भी पहलवान धरने पर बैठे थे लेकिन खेल मंत्रालय के ओवरसाइट कमेटी बनाने के बाद धरना समाप्त कर दिया था। पहलवानों ने बृजभूषण के खिलाफ कोई कार्रवाई का आरोप न लगाते हुए दोबारा धरना शुरू किया है।

धरना शुरू होने के बाद 24 अप्रैल को 7 महिला पहलवानों ने बृजभूषण के खिलाफ एफआईआर की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट का रुख किया। इसमें एक नाबालिग पहलवान भी थी। 28 अप्रैल को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के बाद दिल्ली पुलिस ने कुश्ती महासंघ अध्यक्ष के खिलाफ यौन शोषण मामले में कनॉट प्लेस थाने में दो एफआईआर दर्ज की। इसमें नाबालिग के साथ यौन शोषण मामले में उनके खिलाफ पॉक्सो एक्ट भी लगाया गया है।

ये भी पढ़ें-पहलवानों के आरोपों के जवाब में अब WFI अध्यक्ष बृजभूषण सिंह ने पूछे 6 सवाल, गंभीर हुआ मुद्दा!