अमेरिकी हिंसा : तिरंगा लेकर पहुंचे जैवियर के साथ जुड़ा शशि थरूर का नाम, वरुण गांधी ने पूछा सवाल

0
396
(America Tharoor Varun Gandhi)
अमेर‍िकी ह‍िंंसा के दौरान कथ‍ित रूप से त‍िरंगा लेकर पहुंचे जैव‍ियर

नई दिल्ली : अमेरिका के कैपिटल हिल्स हिंसा में एक उपद्रवी के हाथों में भारतीय तिरंगा नजर आने के बाद से भारत में इस पर विवाद बना है. भाजपा नेता और पीलीभीत से सांसद वरुण गांधी ने इस मामले पर गुरुवार को ट्वीट कर नाराजगी के साथ चिंता भी जताई थी. जिसके बाद देशवासियों के बीच ये मामला चर्चा का विषय बना है. (America Tharoor Varun Gandhi)

शुक्रवार को इसमें एक नया मोड़ आ गया है. सांसद वरुण गांधी ने एक और ट्वीट किया है. जिससे नजर आता है कि हिंसा के बीच तिरंगा ले जाने वाला उपद्रवी कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शशि थरूर का प्रशंसक है. हालांकि वरुण गांधी के ट्वीट पर थरूर ने भी फौरन जवाब दिया है.

शुक्रवार को वरुण गांधी ने अपने ट्वीट के साथ उप्रदवी का फोटो और एक पुराना ट्वीट साझा किया है. गांधी थरूर से पूछते हैं, ‘प्रिय शशि थरूर, अब, जब हम जानते हैं कि ये क्रेजी व्यक्ति आपका इतना प्रिय मित्र था, तो कोई भी ये उम्मीद कर सकता है कि आप और आपके सहयोगी इस तबाही के पीछे खामोश नहीं खड़े थे.’

अमेरिका में भड़की हिंसा के बाद सीनेट के बाहर का मंजर. फाइल फोटो

दरअसल, वरुण गांधी ने अपने ट्वीट के साथ सेंट जैवियर नामक एक व्यक्ति का फोटो शेयर किया है. इसके साथ जैवियर का 11 अप्रैल 2015 का एक ट्वीट, फोटो भी है. जिसमें वो वॉशिंगटन डीसी में कांग्रेस नेता थरूर के साथ रेस्टोरेंट में नजर आते हैं. जैवियर ने खुद को थरूर को प्रशंसक घोषित कर रखा है.

गांधी के ट्वीट के जवाब में थरूर ने लिखा, ‘यह पूरी तरह से अस्वीकार्य है. क्या आप हर शुभचिंतक के गलत कार्यों के लिए खुद को दोषी मान सकते हैं. मैं अपने देश के प्रिय झंडे को शर्मनाक अमेरिकी भीड़ में लाने के किसी भी प्रयास की कड़ी निंदा करता हूं.’


इसे भी पढ़ें : अमेरिकी संसद पर ट्रंप समर्थकों का धावा, गोलीबारी में चार की मौत


 

बुधवार को अमेरिका के वॉशिंगटन डीसी स्थित कैपिटल भवन पर उस वक्त हमला हुआ था जब, निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन को विजेता का प्रमाण पत्र देने के लिए सीनेट में बहस चल रही थी. उसी वक्त राष्ट्रपति ट्रंप समर्थक भीड़ ने भवन पर धावा बोल दिया. घटना में चार नागरिकों की मौत हो चुकी है. इसी भीड़ में व्यक्ति के हाथों में तिरंगा नजर आया था.

20 को शपथ लेंगे बाइडन

जाे बाइडन 20 जनवरी को राष्ट्रपति पद की शपथ लेंगे. उपद्रव के बाद ट्रंप के तेवर थोड़े नरम पड़ गए हैं और उन्होंने शांतिपूर्वक सत्ता हस्तांतरण की बात कही है. वहीं, इस घटना पर अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति और नेताओं ने गहरा दुख जताते हुए ट्रंप पर निशाना साधा है.

इसे भी पढ़ें : अमेरिकी संसद पर ट्रंप समर्थकों का धावा, गोलीबारी में चार की मौत

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here