एमजेपी रुहेलखंड यूनिवर्सिटी प्रशासन के ख़िलाफ़ ABVP का हल्लाबोल, धरने पर बैठे सैकड़ों छात्र

0
55
ABVP Protest MJP Rohelkhand University
महात्मा ज्योतिबा फुले रुहेलखंड विश्वविद्यालय में धरना देते एबीवीपी कार्यकर्ता. Bareilly

द लीडर : बरेली की महात्मा ज्योतिबा फुले रुहेलखंड यूनिवर्सिटी (MJPRU)में प्रशासिक मनमानी के ख़िलाफ़ एक अरसे से सुलग रही विरोध की चिंगारी धधक उठी है. समाजवादी छात्रसभा और एनएसयूआई, छात्रों के हक़ में आवाज़ उठाने का साहस तो नहीं जुटा पाई. लेकिन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP)अड़ गई है. गुरुवार को एबीवीपी के सैकड़ों कार्यकर्ता कैंपस में प्रशासनिक भवन के बाहर धरने पर बैठ गए. और यूनिवर्सिटी एडमिनिस्ट्रेशन के विरोध में नारेबाज़ी की. छात्रों के प्रोटेस्ट को लेकर कैंपस में बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात रहा. (ABVP Protest MJP Rohelkhand University)

पढ़ाई और परीक्षा को लेकर यूनिवर्सिटी से एबीवीपी को तमाम शिकायतें हैं. पहली यही है कि स्नातक और परास्नातक की मुख्य परीक्षाएं हो चुकी हैं. लेकिन प्रैक्टिकल और वायवा अभी तक संपन्न नहीं हुए. इस वजह से रिज़ल्ट लेट हो रहा है. जबकि शैक्षिक सत्र 2022-23 की एडमिशन प्रक्रिया स्टार्ट हो गई है. दूसरी नाराज़गी परीक्षा फॉर्म और रिज़ल्ट तैयार करने वाली एजेंसी को लेकर है. आरोप है एजेंसी ने परीक्षा फॉर्म भरवाने से लेकर बेहद सुस्ती से काम किया है. एडमिट कार्ड में ग़लतियां की थीं. फिर इसी से लगातार काम क्यों लिया गया? छात्र एजेंसी के चयन को लेकर भी गंभीर आरोप लगा रहे हैं.

छात्रों से जुड़ी ऐसी कई शिकायतों को लेकर इससे पहले भी एबीवीपी ने धरना-प्रदर्शन के बाद यूनिवर्सिटी प्रशासन को एक मांग पत्र दिया था. उसे गंभीरता से न लिए जाने पर गुरुवार को संगठन के नेतृत्व में सैकड़ों छात्रों ने कैंपस का रुख किया. और धरने पर बैठ गए. (ABVP Protest MJP Rohelkhand University)

छात्रों का कहना है कि परीक्षा में ढिलाई से आगामी शैक्षिक सत्र काफ़ी लेट होगा. इससे छात्रों की पढ़ाई प्रभावित होगी. दूसरी बात, जो छात्र दूसरे संस्थानों में एडमिशन लेना चाहते हैं, रिज़ल्ट न होने की वजह से उनका एडमिशन भी प्रभावित होगा. हालांकि छात्रों के प्रदर्शन के प्रोफ़ेसर अौर प्रशासनिक अधिकारी उन्हें मनाने की कोशिशों में लगे रहे.


(आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)