गुजरात से उत्तराखंड आया बस भर कोरोना,23 यात्री पॉजिटिव

0
157
New Delhi, Aug 02 (ANI): A health worker in personal protective equipment (PPE) collects a nasal sample from a woman at a local health centre to conduct tests for the coronavirus disease (COVID-19), amid the spread of the disease, in New Delhi on Sunday. (ANI Photo/Rahul Singh)

द लीडर हरिद्वार उत्तराखंड।

कुम्भ चल रहा है। सीएम ने कहा सब आओ तो लोग आ रहे हैं। अब तो कोरोना नेगेटिव का सर्टिफिकेट भी नहीं दिखाना । ऋषिकेश के एक आश्रम में रुके यात्रियों की जांच की गसी तो पता चला श्रद्धा के साथ वहां से बस भर कोरोना आया है। एक साथ आये ये 23 यात्री कोरोना संक्रमित निकले।
गुजराती लोग कुछ ज्यादा ही धार्मिक होते हैं। हरिद्वार ऋषिकेश के आश्रमों में सबसे ज्यादा गुजराती यात्री ही मिलेंगे। चार दिन पूर्व मुनिकीरेती में कुछ यात्रियों आरटी पीसीआर सैंपल लिए गए। सैंपलिंग के बाद ये यात्री नीलकंठ और शीशम झाड़ी स्थित आश्रम में रुके थे यात्री। आज सभी की रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है।

फिर सख्ती होगी

इस खुलासे के बाद प्रदेश सरकार ने सामाजिक दूरी, हाथों की स्वच्छता और मास्क के उपयोग के नियमों का सख्ती से पालन कराने का आदेश जारी कर दिया है। तालाबंदी खत्म होने की प्रक्रिया के तहत जारी मानक प्रचालन प्रक्रिया में यू टर्न लेते हुए जिलाधिकारियों को कहा गया है कि वे नियमों को सख्ती से लागू कराएं।

मुख्य सचिव ओम प्रकाश की ओर से जिलाधिकारियों से कहा गया है कि वे सामाजिक दूरी, हाथों को बार-बार साबुन से धोना और मास्क के अनिवार्य उपयोग को सख्ती से लागू करें। मुख्य सचिव के मुताबिक तालाबंदी समाप्त होने के क्रम में पांच महीने तक कोरोना संक्रमण के मामलों में कमी आई। अब कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं।
चिंता की एक वजह होली पर्व नजदीक आने और महाकुंभ का आयोजन भी है। महाकुंभ में अप्रैल में शाही स्नान हैं जिसमें एक करोड़ के आने का अनुमान है।
प्रदेश सरकार ने एक मार्च और केंद्र सरकार ने 19 मार्च को अनलॉक-5 की एसओपी जारी की थी। अब 22 मार्च को जारी एसओपी और एक मार्च की एसओपी में सबसे बड़ा फर्क ही यह है कि जिलाधिकारियों को सामाजिक दूरी सहित अन्य नियमों का सख्ती से पालन कराने को कहा गया है। इसका मतलब यह भी है कि सार्वजनिक स्थानों पर मास्क न लगाने पर सौ रुपये से लेकर पांच सौ रुपये तक जुर्माना अब लोगों को भरना पड़ सकता है। इसी तरह होली समारोह में अधिक लोगों के इकठ्ठा होने पर कार्रवाई हो सकती है। यह बहुत हद तक जिलाधिकारियों के रुख पर निर्भर करेगा। यह एसओपी 31 मार्च तक जारी है और कोरोना संक्रमण बढ़ते हैं तो सरकार अधिक सख्त रुख अपना सकती है।

सीएम का परिवार स्वस्थ

मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के कोरोना पॉजिटिव आने के बाद उनकी पत्नी व बेटी का भी सैंपल लिया गया था जिसकी रिपोर्ट अब आ चुकी है सीएम की पत्नी और बेटी की रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद सीएम के परिवार ने भी राहत की सांस ली है हालांकि मुख्यमंत्री खुद आइसोलेट हो रखे हैं वह आइसोलेशन में ही अपने सरकारी कामकाज निपटा रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here