कर्नाटक में विधानसभा का गौमूत्र से हुआ शुद्धीकरण, जिसकी ये थी वजह?

0
195

Karnataka Assembly : उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री आवास का गंगा जल से शुद्ध किया जाना और उसके बाद सीएम योगी आदित्यनाथ का मुख्यमंत्री आवास में प्रवेश करना बीते वर्षों में काफी चर्चा में रहा है। खासतौर से विपक्ष की ओर से इसे कई बार मुद्दा बनाया गया है। लेकिन इस मामले में कर्नाटक सरकार एक और कदम आगे निकल गई है यहां कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने विधानसभा का गोमूत्र और डेटॉल से ‘शुद्धिकरण’ किया है। कांग्रेस कार्यकर्ताओं का कहना है कि भ्रष्टाचार युक्त भाजपा सरकार के जाने के बाद ये करना जरूरी था।

वहीं इससे जुड़ी एक बात ये भी है कि इसी साल जनवरी में कर्नाटक के मौजूदा डिप्टी सीएम डीके शिवकुमार ने भाजपा सरकार पर हमला बोलते हुए कहा था कि उनकी सरकार आएगी तब विधानसभा का शुद्धिकरण किया जाएगा।उन्होंने उस दौरान कहा था विधानसभा भवन भाजपा के भ्रष्टाचार से प्रदूषित हो गया है।  जब कांग्रेस सत्ता में आएगी तो उसे गौमूत्र से शुद्ध किया जाएगा।

वहीं आपको बताते चलें, बीती 10 मई को कर्नाटक के सभी 224 सीटों पर एक चरण में हुए चुनाव के नतीजों में कांग्रेस को पूर्ण बहुमत मिला। कांग्रेस ने 135 सीटें जीती और सिद्धारमैया ने दूसरी बार कर्नाटक के मुख्यमंत्री के रूप में और कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रमुख डीके शिवकुमार ने डिप्टी सीएम पद की शपथ ली है। सिद्धारमैया और डीके शिवकुमार के अलावा आठ अन्य कांग्रेस नेताओं ने भी कर्नाटक में कैबिनेट मंत्री के रूप में शपथ ली। वहीं मुख्यमंत्री के शपथ लेने के बाद जब पार्टी कार्यकर्ताओं ने सोमवार को विधानसभा में प्रवेश किया तो सबसे पहले शुद्धिकरण का ही काम किया। बता दें कि राज्य में कांग्रेस की नई सरकार बनने के बाद कर्नाटक विधानसभा का पहला सत्र आज से शुरू हो गया है । सत्र 24 मई तक तीन दिनों के लिए चलेगा।

ये भी पढ़ें- 2000 के नोट के पहले भी बंद हुए हैं ये बड़े नोट, जानकर हो जायेंगे हैरान!