अपने वजूद की खातिर ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के पिता ने मांग ली फ्रांस की नागरिकता

0
489
Boris Johnsons Citizenship France
स्टैनली जॉनसन, फोटो साभार सोशल मीडिया

द लीडर : दुनिया के ताकतवर देशों में शुमार ब्रिटेन गुरुवार की रात यूरोपीय यूनियन से अलग हो गया है. प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के पिता स्टैनली जॉनसन अपने ही बेटे की सरकार के इस फैसले से नाखुश हैं. इस कदर कि उन्होंने फ्रांस की नागरिकता (citizenship) मांगकर दुनिया को चौंका दिया है. (Boris Johnsons Citizenship France)

‘द गार्जियन’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक फ्रेंच रेडियो ‘आरटीएल’ के साथ एक साक्षात्कार में स्टैनली ने इस बात की पुष्टि की है कि ब्रिटेन के ब्रेक्जिट संक्रमणकाल की पूर्व संध्या पर एक फ्रांसीसी पासपोर्ट के लिए आवेदन कर रहे हैं.

उन्होंने कहा, ‘ये फ्रेंच नागरिक बनने का सवाल नहीं है. मैं, अगर ठीक से समझ पाता हूं, तो मैं फ्रेंच ही हूं. मेरी मां फ्रांस में पैदा हुईं. उनकी मां पूरी तरह से फ्रांसीसी हैं, क्योंकि उनके दादा भी थे. मेरे लिये ये वो चीज हासिल करने का सवाल है, जो मैं पहले से हूं. इसको लेकर मैं बेहद खुश हूं. मैं हमेशा यूरोपीय रहूंगा. आप मुझे ब्रितानी नहीं कह सकते.’ (Boris Johnsons Citizenship France)

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन. फोटो, साभार सोशल मीडिया

द गार्जियन के मुताबिक ब्रेक्जिट वोट के बाद से हजारों ब्रिटिशों ने यूरोपीय संघ की नागरिकता हासिल कर ली है. इसके लिए अब तक करीब 3.50 लाख आवेदन हुए हैं.

क्या है ब्रेक्जिट

द्वितीय विश्वयुद्ध खत्म होने के पांच साल बाद फ्रांस और जर्मनी के बीच एक संधि हुई थी. दोनों ने एक दूसरे के खिलाफ जंग न लड़ने के हस्ताक्षर किये. बाद में यूरोपीय आर्थिक समुदाय का गठन किया गया. इसी को आज यूरोपीय यूनियन के तौर पर जाना जाता है.

साल 1973 में ब्रिटेन इसका सदस्य बना. मौजूदा समय में 27 देश इससे जुड़े हैं. ब्रिटेन में ब्रेेक्जिट को लेकर पिछले कई सालों से कवायद जारी थी. पिछले साल प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने इस पर हस्ताक्षर किये थे. इस तरह ब्रिटेन ने संघ से अपना नाता तोड़ लिया है.


भारत ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में सदस्य की जिम्मेदारी संभाली


सदस्य देशों में नागरिकता का हक खोया

यूरोपीय संघ के नागरिकों के पास सभी देश 27 देशों में बिना नागरिकता लिये रहने का था. वे वहां काम भी कर सकते थे. संघ से बाहार होने के बाद अब ब्रिटेन के नागरिकों को इन देशों में रहने के लिए नागरिकता की जरूरत पड़ेगी.

ब्रेक्जिट के खिलाफ अभियान चला चुके स्टैनली

बोरिस जॉनसन के पिता स्टैनली यूरोपीय आर्थिक समुदाय ()के लिए बतौर सिविल सेवक काम कर चुके हैं. वर्ष 2016 में वे संघ में बने रहने के लिए ब्रिटेन में अभियान भी चला चुके हैं. हालांकि फ्रांस की नागरिकता लेने के उनके इस फैसले ने एक बार फिर दुनियां का ध्यान इस मुद्​दे की तरफ खींचा है. (Boris Johnsons Citizenship France)

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here