महाराष्ट्र के ज‍िला अस्पताल में लगी आग, 10 नवजात बच्चों की मौत

Newborns Died in Hospital Fire in bhandara Maharashtra

द लीडर : महाराष्ट्र के भंडारा जिले से एक दिल दहलाने वाली घटना सामने आई है. जिला सामान्य अस्पताल में आग लगने से 10 नवजात बच्चों की मौत हो गई है. वहीं, 7 शिशुओं को सुरक्षित निकाल लिया गया है. आग लगने के कारणों की जांच की जा रही है. हादसे पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुख जताया है.

घटना शनिवार रात करीब 2 बजे घटी. अस्पताल के मेडिकल अधिकारी डा. प्रमोद खंडाते ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि, ‘रात करीब 2 बजे ये हादसा हुआ. अस्पताल के आउट बोर्न यूनिट से धुआं निकल रहा था. नर्स ने जब दरवाजा खोला तो अंदर धुआं भरा था.’ इसके बाद दमकल विभाग की गाड़ियों ने आग पर काबू पाया.  (Newborns Died in Bhandara Maharashtra)

महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने कहा, ‘भंडारा स्थित जिला सामान्य अस्पताल में नवजात देखभाल यूनिट में आग लगने से 10 बच्चों की मौत की खबर दुर्भाग्यपूर्ण है. पुलिस को घटना की जांच का आदेश दिया है. मैं स्वयं भी अस्पताल जा रहा हूं.’ वहीं, राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने मृतक बच्चों के परिजनों को 5-5 लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की है.

घटना से बच्चों की माताओं का रो-रोकर बुरा हाल है. मलाल इस बात का भी है कि अभी उन्होंने अपने बच्चों को जी भरकर देखा भी नहीं था. मारे गए कुछ बच्चों की उम्र महज 5 से 15 दिन के तक बताई जा रही है.

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फणनवीस ने घटना को दर्दनाक बताते हुए दोषियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की मांग की है. वहीं, नवजात बच्चों की देखभाल के लिए बनी यूनिट में इतनी बड़ी लापरवाही कैसे बरती गई. इसको लेकर अस्पताल प्रबंधन पर सवाल उठ रहे हैं.

भंडारा में हुए हादसे पर प्रधानमंत्री मोदी और गृहमंत्री अमित शाह ने दुख जताया और शोक संतप्त परिवारों को  सांत्‍वना दी. प्रधानमंत्री ने महाराष्ट्र के भंडारा की दुर्घटना को दिल दहला देने वाली त्रासदी बताया. वहीं अमित शाह ने कहा, ‘यह हादसा दुर्भाग्यपूर्ण है.’


किसान नेताओं ने एक सुर में कहा, कानून निरस्त करने से कम पर कुछ भी मंजूर नहीं : बेनतीजा रही बैठक


राहुल गांधी ने जताया दुख

महाराष्ट्र के भंडारा जिले में आग की दुर्भाग्यपूर्ण घटना से बेहद दुखी हूं. राज्य सरकार से मेरी अपील है कि घायलों और मृतक परिवारों की हरसंभव मदद करें. मृतक बच्चों के परिवारों के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *