माफिया अशरफ के साले सद्दाम काे एसटीएफ ने दिल्ली से किया गिरफ्तार, उमेशपाल हत्याकांड में है आरोपी

द लीडर हिंदी: माफिया अतीक अहमद के भाई अशरफ के साले अब्दुल समद उर्फ सद्दाम को बरेली STF ने दिल्ली से दबोच लिया है.

सद्दाम उमेशपाल हत्याकांड के बाद से फरार चल रहा था. उस पर आईजी की ओर से एक लाख रुपये का इनाम जारी किया गया था.

वह अपनी प्रेमिका अनम से मिलने दिल्ली के मालवीय नगर आया था. इसकी जानकारी होने पर एसटीएफ ने दिल्ली में डेरा डाला और उसे धर लिया.

दिल्ली से STF उसे बरेली ले आई है. एसटीएफ के मुताबिक, उमेश पाल की हत्या के बाद सद्दाम कर्नाटक फरार हो गया था. जबकि हत्या से पहले बरेली की खुशबू एंक्लेव कॉलोनी में रह रहा था.

उससे दो मोबाइल फोन, एक वर्ना कार बरामद हुई है. फिलहाल, वो दिल्ली के मालवीय नगर में डीडीए के फ्लैट्स में रह रहा था.

उस पर बरेली जेल में बंद अशरफ से शूटरों की अवैध तरीके से मुलाकात कराने का आरोप है. बताते हैं कि हत्याकांड से पहले जेल में उसका सिक्का चलता था. अब वह उसी जेल की सलाखों के पीछे होगा.

आपको बता दें कि 24 फरवरी 2023 को प्रयागराज में उमेश पाल को गोलियां और बम बरसाकर मौत के घाट उतार दिया गया था.

माफिया अतीक अहमद और उसके भाई अशरफ पर हत्याकांड की साजिश रचने का आरोप लगा. एसटीएफ के मुताबिक, पूरे हत्याकांड की पटकथा बरेली सेंट्रल जेल में लिखी गई.

11 फरवरी को बरेली जेल बंद अशरफ से अतीक के बेटे असद समेत 9 लोग मिले थे. इनमें शूटर विजय उर्फ उस्मान चौधरी, गुड्‌डू मुस्लिम और गुलाम भी शामिल था.

अशरफ ने साले सद्दाम ने अपने गुर्गे लल्ला गद्दी की मदद से जेल में शूटरों की अशरफ से मुलाकात कराई थी. जिन्होंने वारदात को अंजाम दिया था.

मामले में बिथरी चैनपुर थाने में अशरफ, जेल अधिकारी व कर्मचारी समेत सद्दाम और अन्य पर केस दर्ज हुआ था.

पिछले दिनों ने ही बिथरी चैनपुर पुलिस ने इसी मामले में फरार चल रहे आतिन जफर को प्रयागराज से गिरफ्तार किया था. जो असद का साथी था और उसे बचाने के लिए पुलिस को गुमराह करने का प्रयास किया था.