डब्लूएचओ रिपोर्ट में चीन को क्लीन चिट,14 देश असहमत

0
117

नई दिल्ली।

कोरोना महामारी का कहर पूरी दुनिया पर जारी है। इस बारे में विश्व स्वास्थ्य संगठन की टीम ने अपनी रिपोर्ट में चीन को क्लीन चिट देने के साथ कई खुलासे किए हैं और दुनिया के 14 देशों की इस पर असहमति के बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन ने आगे और जांच करने की बात कही है।

कोरोना वायरस इंसानों में कैसे फैला इसे लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन की टीम की रिपोर्ट इस धारणा को सही बात रही है कि यह वायरस संभवत: चमगादड़ से किसी दूसरे जानवर (इंटरमीडियरी) के जरिए इंसानों तक पहुंचा होगा, लेकिन एक्सपर्ट्स ने इस वायरस के वुहान (चीन) की लैब से लीक होने की बात को खारिज कर दिया है।

रिपोर्ट में वायरस के पीछे चीन की साजिश की थ्योरी को खारिज करते हुए कहा गया है कि यह स्वाभविक ढंग से आया। विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन की कोरोना वायरस की उत्‍पत्ति और इसके इंसानों में फैलने की जानकारी वाली ताजा रिपोर्ट पर अमेरिका और जापान समेत 14 देशों ने चिंता जताई।

14 देशों ने  कहा है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने अपनी रिपोर्ट को ठीक से तैयार नहीं किया है। इसमें ऑरिजनल डाटा और सैंपल को शामिल नहीं किया गया है। इन देशों से संगठन द्वारा रिपोर्ट में देरी किए जाने पर भी आपत्ति जताई। विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन ने इस रिपोर्ट को मंगलवार को जारी किया था।

जिन देशों ने इस रिपोर्ट पर आपत्ति जताई है कि उनमें अमेरिका, कनाडा, चेक रिपब्लिक, डेनमार्क, इस्‍तोनिया और इजरायल भी शामिल हैं। इन सभी ने एक बयान में कहा है कि वो विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन द्वारा किए गए प्रयासों की सराहना करते हैं, साथ ही संगठन द्वारा महामारी को खत्‍म करने के जो कदम उठाए हैं वो उसके समर्थन में हैं। इतना ही नहीं वे वायरस की शुरुआत कैसे हुई और कैसे ये दूसरे देशों में फैलता चला गया इसको भी समझते हैं। इसके बावजूद इन सभी देशों ने जिस बारे में अपनी चिंता व्‍यक्‍त की है, उसको गंभीरता से लिए जाने की जरूरत है। जापान, लातविया, लिथुवानिया, नॉर्वे, रिपब्लिक ऑफ कोरिया, स्‍लोवानिया और ब्रिटेन ने भी अन्‍य देशों द्वारा दिए गए इस बयान को सही बताते हुए इसपर अपनी सहमति दी है।

इन सभी देशों का कहना है कि विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन की टीम के विशेषज्ञों ने चीन के वुहान में 14 जनवरी से 10 फरवरी के बीच जो रिव्‍यू किया वो इस बात को जानने का पहला कदम होगा कि ये वायरस कैसे आया और कैसे फैला। संगठन के महानिदेशक टैड्रोस एधनोम घेबरेयसस ने विशेषज्ञों से मांग की है कि इस रिपोर्ट पर दोबारा गौर कर किसी ठोस नतीजे पर पहुंचने की जरूरत है।

चीन की वुहान लैब के बारे में
अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का कहना था कि कोरोना वायरस चीन की वुहान लैब से लीक हुआ। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस आशंका को खारिज कर दिया। तब चीन ने कहा था कि कोरोना वायरस का ओरिजिन उसके यहां नहीं था, बल्कि यह इंपोर्टेड फ्रोजन फूड के जरिए वहां पहुंचा।

एक्सपर्ट ने इस संभावना से पूरी तरह इनकार तो नहीं किया, लेकिन कहा कि इसके आसार बहुत कम हैं। हाल ही में कुछ और एक्सपर्ट ने भी निष्कर्ष दिया था कि फ्रोजेन फ़ूड कोरोना का संवाहक नहीं हो सकता।

इसे एक जैविक हथियार की तरह विकसित किये जाने, स्मोक गन से छोड़े जाने जैसी बातों को विशेषज्ञ दल ने कपोल कल्पना माना है।

और स्टडी की जरूरत

हालांकि, एक्सपर्ट्स की टीम ने कोरोना वायरस के इंसानों तक पहुंचने की वजह को लेकर कोई पुख्ता जवाब नहीं दिया है। इतना जरूर कहा कि चमगादड़ या पेंगोलिन इसका मूल सोर्स हो सकता है लेकिन ये इंसानों तक किसके जरिये पहुंचा ये साफ नहीं हो रहा है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here