उत्तराखण्ड आपदा : अब तक 14 शव बरामद, 15 रेस्क्यू, 150 से ज्यादा लापता

0
444
Uttarakhand Glaciar Burst Updates

उत्तराखण्ड के चमोली में ऋषिगंगा घाटी में हुई भारी तबाही के बाद राहत और बचाव कार्य जारी हैं. ताजा अपडेट के अनुसार अब तक 14 शव बरामद कर लिए गए हैं. अब तक 15 लोगों को रेस्क्यू कर लिया गया है. आईटीबीपी, एनडीआरएफ, एसडीआरएफ की टीमें आज पूरे दिन भी रेस्क्यू आपरेशन में जुटी रहेंगी. (Uttarakhand Glaciar Burst Updates)

तपोवन बांध के लिए बनायी गयी सुरंगों में अभी भी 30 लोगों के फंसे होने की संभावना है. स्थानीय प्रशासन के अब भी डेढ़ सौ से ज्यादा लोगों के लापता होने की सम्भावना के बीच आईटीबीपी के 300 से ज्यादा सुरंगों को क्लियर करने में जुटे हुए हैं. सुरंगों के आसपास काफी ज्यादा मलबा इकठ्ठा है जिस वजह से मशीनों को इस्तेमाल कर पाना संभव नहीं हो पा रहा है.

रविवार सुबह उत्तराखण्ड के चमोली जिले में ऋषिगंगा और धौलीगंगा के जलस्तर में हुई अभूतपूर्व बढ़ोत्तरी से ऋषि गंगा घाटी में भीषण तबाही फ़ैल गयी. घाटी में चल रही तपोवन-विष्णुगाड़ और ऋषिगंगा परियोजना लगभग तबाह हो गयीं. परियोजना में काम कर रहे कई मजदूर बह गए. इन बांधों के लिए बनी सुरंगों में अब भी कई मजदूरों के फंसे होने की आशंका है.

Uttarakhand Glaciar Burst Updates

राज्य के पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने इस हादसे में 150 से ज़्यादा लोगों के अब भी लापता होना का बयान दिया है. उन्होंने यह भी कहा कि ’घबराने की कोई बात नहीं है. कल ग्लेशियर के फटने से आई बाढ़ में रेनी बिजली परियोजना पूरी तरह बह गयी. इससे तपोवन में भी भारी तबाही मची है. पहले प्रोजेक्ट की जगह से 32 लोग और दूसरे प्रोजेटक्ट की जगह से 121 लोग गायब है.’’

इस बीच वायुसेना भी बचाव कार्यों में जुट गयी है. वायुसेना ने बइस हादसे के बाद हवाई राहत और बचाव कार्य के लिए Mi-17 और एडवांस लाइट हैलीकॉप्टर देहरादून से जोशीमठ भेज दिए हैं.

यह भी पढ़ें – ग्लेशियर टूटने से बिजली परियोजना में काम करने वाले 150 मजदूर लापता, राहत बचाव की पल-पल की अपडेट ले रहे प्रधानमंत्री

यह भी पढ़ें – उत्तराखंड : शाम तक सात शव बरामद, सेना के जवान पहुंचे, ग्रामीणों को रेस्कयू के लिए हेलीकॉप्टर तैयार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here