उत्तराखंड : तो अपनी पार्टी के कौरवों से लड़ेंगे त्रिवेंद्र!

0
174

द लीडर देहरादून। उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत अब बागी तेवर में दिख रहे हैं। अपने विधानसभा क्षेत्र में जाकर महाभारत की कथा का प्रसंग लेते हुए उन्होंने अपनी ही पार्टी के कौरावों से युद्ध का आह्वान किया है। वह लगातार इस सवाल को तरह तरह से उठा रहे हैं कि उन्हें मुख्यमंत्री पद से हटाया क्यों गया।

गुरुवार को डोईवाला विधानसभा क्षेत्र के बालावाला में होली मिलन कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि महाभारत में कौरवों ने अभिमन्यु का छल-कपट से वध किया था। इसके बाद द्रौपदी ने शोक नहीं जताया बल्कि हाथ खड़े कर पांडवों से कहा कि छल से मारे गये अभिमन्यु की हत्या का बदला लो। प्रतिकार करो। इस कथन के बाद समर्थकों ने त्रिवेंद्र जिंदाबाद के नारे लगाने शुरू कर दिए।त्रिवेंद्र रावत की बातों से यह भी नजर आया कि वे आज तक यह समझ नहीं पाये कि उन्हें क्यों हटाया गया।

इस बयान पर मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि मैं देख रहा हूं कि क्षेत्र के कार्यकर्ता काफी तकलीफ में हैं और भावुक भी हैं। मैं लगातार इस चीज को महसूस कर रहा हूं। मैंने उनसे कहा कि मैं जितने दिन भी इस पद पर रहा मैंने बहुत साफ-सुथरे तरीके से सरकार चलाने का प्रयास किया। इस बात का गर्व हमारे प्रदेश को होना चाहिए।

क्षेत्र के कार्यकर्ता को भी गर्व होना चाहिए जिनके कारण में विधायक व मुख्यमंत्री बना। राजनीति की काली सुरंग में साफ सुथरे बाहर निकले हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें चाहे कितने भी कष्ट झेलने पड़े, वे कष्ट झेलेंगे। लेकिन ईमानदारी के साथ काम करने से कोई उन्हें नहीं डिगा सकता। हो सकता है कुछ लोगों को इससे कष्ट हुआ हो। लेकिन वह आश्वस्त करते हैं कि वह राजनीतिक की काली सुरंग में बेदाग रहेंगे।

जिस दिन त्रिवेंद्र ने त्यागपत्र दिया उस दिन भी खुद को हटाने का कारण पूछने पर कहा था कि इसका जवाब लेने आपको दिल्ली जाना पड़ेगा। सरकार के चार साल पूरे होने पर कोई जश्न नहीं हुआ लेकिन त्रिवेंद्र ने एक विस्तृत बयान जारी कर अपने कार्यकाल को बेदाग और ऐतिहासिक बताया था। अब तो उन्होंने उन्हें सत्ता से हटाने वालों को कौरव बात कर युद्ध का ऐलान ही कर दिया है।

फिर गलत बोल गए: अभिमन्यु को बताया द्रोपदी का पुत्र

भाजपा नेताओं का अल्पज्ञान उनके भाषणों में झलकता ही रहता है। एक बार त्रिवेंद्र ने कहा था गाय सांस छोड़ती है तो ऑक्सीजन मिलता है। अब वह अभिमन्यु को द्रोपदी की संतान कह बैठे। और साफ करते हुए बोले द्रोपदी ने अपनी कोख से जन्मा था। सच ये है कि अभिमन्यु तो अर्जुन व सुभद्रा की संतान थे।। कुछ दिन पहले सीएम तीरथ रावत ने भी कह दिया था कि अमेरिका ने भारत पर 200 साल राज किया। इस पर काफी बवाल भी मचा।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here