हम भाजपा जैसे नहीं हैं : असम में बरसे राहुल

0
149

गुवाहाटी | असम विधानसभा चुनाव के मद्देनजर राहुल गांधी आज राज्य के दौरे पर हैं। उन्होंने गुवाहाटी के कामाख्या मंदिर में पूजा की। इसके बाद उन्होंने कहा कि पार्टी मतदाताओं से किया हर वादा पूरा करती है। कांग्रेस पार्टी ने पांच गारंटी दी हैं, ये हमारा चुनाव का मुख्य मुद्दा है। हम भाजपा जैसे नहीं हैं, हमने छत्तीसगढ़, पंजाब, कर्नाटक में कहा था ​कि कर्जा माफ करेंगे और किया। चाय बागानों के मजदूरों को न्यूनतम 365 रुपये प्रतिदिन की हमारी गारंटी को याद रखना चाहिए।

बता दें कि राज्य में तीन चरणों में चुनाव होने हैं। पहले चरण का मतदान 27 मार्च को हुआ। दूसरे चरण का मतदान गुरुवार एक अप्रैल को होना है। वहीं तीसरे चरण का मतदान छह अप्रैल को होगा। नतीजे दो मई को आएंगे।

यह भी पढ़े – मुख्तार का यूपी यात्रा में पहला पड़ाव मोहाली, कोर्ट में हुआ पेश

कामाख्या देवी मंदिर में पूजा करने के बाद राहुल गांधी ने अपने ट्विटर वॉल पर लिखा कि असम, सम्मान व प्रगति के लिए इस संघर्ष में हम आपके साथ हैं। ट्विट के साथ उन्होंने एक तस्वीर भी साझा की है जिसमें वे हाथ जोड़े नजर आ रहे हैं। उन्होंने सिर पर लाल रंग का टीका लगा रखा है जबकि कंधे पर लाल रंग की चुनरी दिख रही है। गले में उनके गेंदा फूल की माला नजर आ रही है। राहुल गांधी के दो दिवसीय असम दौरे का आज अंतिम दिन है। मंगलवार को खराब मौसम के कारण वो रैली नहीं कर पाए थे, लेकिन उन्होंने वीडियो संदेश जारी किया था ।

कांग्रेस की पांच गारंटी

राहुल गांधी ने कांग्रेस के पांच प्रमुख चुनावी वादों का उल्लेख करते हुए कहा कि असम में सीएए (संशोधित नागरिकता कानून) को लागू नहीं करने देंगे क्योंकि यह राज्य की पहचान, इतिहास और संस्कृति पर हमला है। हम राज्य की पहचान, इतिहास और संस्कृति की रक्षा करेंगे। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने यह वादा फिर दोहराया कि प्रदेश में उनकी पार्टी की अगुवाई में सरकार बनने पर बड़े पैमाने पर नए रोजगार का सृजन किया जाएगा तथा चाय बागानों में काम करने वालों के लिए प्रतिदिन 365 रुपये की मजदूरी तय की जाएगी।

यह भी पढ़े – क्या आपने खाएं हैं बंगाल के जयनगर के लड्डू ?

सीएए लागू नहीं होने देंगे

राहुल ने इस दौरान नागरिकता (संशोधन) अधिनियम यानी सीएए को लेकर भाजपा के खिलाफ प्रहार जारी रखा। उन्होंने कहा कि बीजेपी रोजगार देने की कोशिश नहीं करती, युवाओं की मदद करने की कोशिश नहीं करती, उल्टा असम पर आक्रमण करती है। सीएए असम पर आक्रमण है, ये सिर्फ एक कानून नहीं है ये आपके इतिहास, भाषा और भाईचारे पर आक्रमण है और इसलिए हम इसे रोक रहे हैं ।

कब है वोटिंग

गौरतलब है कि असम विधानसभा चुनाव के लिए तीन चरणों में मतदान हो रहा है। पहले चरण का मतदान 27 मार्च को संपन्न हो चुका है। दूसरे चरण का मतदान एक अप्रैल और तीसरे चरण का मतदान छह अप्रैल को होगा। असम विधानसभा के लिए दूसरे चरण के चुनाव में प्रचार अभियान मंगलवार शाम को समाप्त हो गया। दूसरे चरण के तहत एक अप्रैल को 39 निर्वाचन क्षेत्रों में 345 उम्मीदवारों के राजनीतिक भविष्य का फैसला होगा।

यह भी पढ़े – प्रदेश में बढ़ते कोरोना ने बढ़ाई सरकार की चिंता – एक बार फिर स्कूल बंद करने के आदेश

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here