ज्ञानवापी विवाद पर मायावती का बड़ा बयान, चुनकर धार्मिक स्‍थलों को बना रहे न‍िशाना

0
104

द लीडर | उत्तर प्रदेश के वाराणसी में स्थित ज्ञानवापी मस्जिद परिसर की कोर्ट के आदेश पर वीडियोग्राफी और सर्वे का काम पूरा होने के बाद आज बसपा प्रमुख मायावती ने भाजपा सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं। मायावती ने आरोप लगाते हुए कहा क‍ि भाजपा चुन-चुनकर धार्मिक स्‍थलों को न‍िशाना बना रही है। इससे देश का महौल बिगड़ सकता है।

मायावती ने प्रेस नोट ट्वीट करते हुए कहा क‍ि, ‘देश में निरंतर बढ़ रही गरीबी बेरोजगारी वो आसमान छू रही महंगाई आदि से त्रस्त जनता का ध्यान बांटने के लिए बीजेपी व इनके सहयोगी संगठनों चुन-चुनकर व खासकर यहां के धार्मिक स्थलों को निशाना बना रहे हैं। यह किसी से छिपा नहीं है तथा इससे यहां कभी भी हालात बिगड़ सकते हैं।


यह भी पढ़े –पूर्व पीएम राजीव गांधी हत्याकांड के दोषी की रिहाई और गुजरात से हार्दिक पटेल का कांग्रेस से इस्तीफ़ा


बीजेपी को इस तरफ ध्यान देने की जरूरत – मायावती

ज्ञानवापी को लेकर जारी बवाल पर मायावती ने कहा कि, जिस तरह से षड़यंत्र के तहत लोगों की धार्मिक भावनाओं को भड़काया जा रहा है, तो बीजेपी को इस ओर ध्यान देने की जरूरत है कि किस चीज से हमारा देश मजबूत रहेगा. इसके साथ विशेषकर एक धर्म समुदाय से जुड़े स्थानों के नाम भी जो एक-एक कर बदले जा रहे हैं… इससे हमारे देश में शांति, सद्भाव और भाईचारी नहीं बल्कि आपसी नफरत की भावना ही पैदा होगी. ये सब काफी चिंतनीय है।

मायावती ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि, इससे देश की आम जनता और सभी धर्मों के लोग जरूर सतर्क रहें। इससे न तो देश का भला होगा और ना ही आम जनता का इससे भला होगा। उन्होंने कहा कि, बसपा की लोगों से इस मामले में यही अपील है कि वो आपसी भाईचारा कायम रहे।

अखिलेश ने BJP पर बोला हमला 

बीएसपी सुप्रीमो से पहले समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी ज्ञानवापी मुद्दे को लेकर बीजेपी सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार महंगाई से जनता का ध्यान हटाने और सरकारी उपक्रमों को बेचने के लिए ज्ञानवापी और ताजमहल जैसे मुद्दों को हवा दे रही है।

सपा प्रमुख ने कहा कि बीजेपी बुनियादी सवालों से जनता का ध्यान भटका रही है। इस समय महंगाई सबसे बड़ मुद्दा है जो जनता के लिए परेशानी का सबब बनता जा रहा है। जब जब बीजेपी को मूल मुद्दों से जनता का ध्यान भटकाना होता है तब वह मंदिर मस्जिद जैसे मुद्दों को उछालती है। ज्ञानवापी और ताजमहल जैसे मामले भी उन्हीं में से एक है।

मांगा था दो द‍िन का समय

बता दें क‍ि कोर्ट की ओर से गठ‍ित ज्ञानवापी पर‍िसर का सर्वे और वीडि‍योग्राफी करने वाली टीम ने काम पूरा कर ल‍िया है। अब कोर्ट की ओर से सर्वे के ल‍िए गठित की गई एडवोकेट कमिश्‍नर की टीम र‍िपोर्ट शुक्रवार तक सौंप सकती है। सर्वे पूरा होने के बाद एडवोकेट कमिश्‍नर ने कोर्ट से र‍िपोर्ट दाख‍िल करने के ल‍िए दो द‍िनों का समय मांगा था।

(आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)