लुम्बिनी को गोरखपुर, जनकपुर को अयोध्या से जोड़ने पर हुई बात

0
138

 

दिल्ली/ देहरादून

उत्तस्राखण्ड के पर्यटन, सिंचाई, संस्कृति एवं धर्मस्व मंत्री सतपाल महाराज ने शुक्रवार को नई दिल्ली में नेपाल के राजदूत नीलाम्बर आचार्य और राम प्रसाद सुबेदी भेंट कर पंचेश्वर बांध के साथ दोनों देशों के चार शहरों को रसीला मार्ग से जोड़ने के बारे में बात की।
इस दौरान भारत-नेपाल के मैत्रीपूर्ण संबंधों, आपसी सौहार्द, सहयोग को आगे बढ़ाने पर भी विस्तृत चर्चा की।
सतपाल महाराज ने आज नई दिल्ली स्थित नेपाल दूतावास में नेपाल के राजदूत नीलांबर आचार्य और राम प्रसाद सुबेदी मंत्री डीसीएम से भेंट कर उन्हें प्रदेश के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत की ओर से होली की शुभकामनाएं दी। ममहाराज ने कहा कि सामाजिक क्षेत्र में भारत नेपाल की खुली सीमा दोनों देशों के संबंधों की विशेषता है, जिससे दोनों देशों के लोगों को आवागमन में सुगमता रहती है। दोनों देशों के नागरिकों के बीच आजीविका के साथ-साथ विवाह और पारिवारिक संबंधों की मजबूत नींव है। इस नींव को ही रोटी बेटी का रिश्ता नाम दिया गया है।
उन्होने नेपाल के राजदूत से बातचीत के दौरान कहा कि नेपाल, भारत का एक महत्त्वपूर्ण पड़ोसी है और सदियों से चले आ रहे भौगोलिक, ऐतिहासिक, सांस्कृतिक एवं आर्थिक संबंधों के कारण हम एक दूसरे के लिए विशेष महत्त्व रखते हैं।
भारत और नेपाल हिंदू धर्म एवं बौद्ध धर्म के संदर्भ में समान संबंध साझा करते हैं। दोनों देशों के बीच 1850 किलोमीटर से अधिक लंबी साझा सीमा है, जिससे भारत के पाँच राज्य–सिक्किम, पश्चिम बंगाल, बिहार, उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड जुड़े हैं।
सतपाल महाराज ने कहा कि भारत व नेपाल दोनों ही देशों में हिंदू व बौद्ध धर्म को मानने वाले लोग हैं। बुद्ध का जन्म वर्तमान नेपाल के लुम्बिनी में हुआ था। बाद में बुद्ध ज्ञान की खोज में बोध गया आए, जहाँ उन्हें आत्मज्ञान प्राप्त हुआ। सीता की जन्मस्थली जनकपुर नेपाल और राम जी की जन्मभूमि अयोध्या भारत में है।
रामायण सर्किट की योजना दोनों देशों के मज़बूत सांस्कृतिक व धार्मिक संबंधों का प्रतीक है। इसलिए जरूरी है कि लुम्बिनी (नेपाल) से गोरखपुर (भारत) तक और जनकपुर (नेपाल) से अयोध्या (भारत) के मध्य रेलवे लाईन का विस्तार हो।

महाराज ने कहा कि कोरोना काल में किस प्रकार से दोनों देशों के बीच आपसी सहयोग से पर्यटन को बढ़ाया जाए इस पर भी व्यापक चर्चा हुई। महाराज ने कहा कि भारत पंचेश्वर डैम सहित नेपाल में विभिन्न विकास योजनाओं में सहयोगी है। इसलिए आवश्यक है कि आपसी मैत्री व सहयोग से हम लोग विभिन्न विकास योजनाओं को लेकर सद्भावना के साथ आगे बढ़ें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here