‘ज्ञानवापी थी, है और रहेगी, इस बार नहीं छीन पाओगे’ – ओवैसी के तीखे बोल

0
254

द लीडर | वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद में जारी सर्वे के बीच AIMIM के अध्यक्ष और हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि आपने मक्कारी से बाबरी मस्जिद को छिना, लेकिन अब ज्ञानवापी को नहीं छीन पाओगे. ओवैसी ने ये बातें गुजरात के अहमदाबाद में लोगों को संबोधित करते हुए कही.

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, ‘आप हुकूमत को नहीं बदल सकते क्योंकि आपका वोट बैंक कभी नहीं रहा. पहले बाबरी हुआ, अब ज्ञानवापी का हो रहा है. तुमने मक्कारी से बाबरी मस्जिद को छिना, लेकिन अब ज्ञानवापी को नहीं छीन पाओगे. ज्ञानवापी मस्जिद थी है और रहेगी.’ ओवैसी ने आगे कहा बीजेपी, आप, कांग्रेस  और सपा चाहती हैं कि आप मुसलमान हो तो सिर्फ़ अपने घर में रहो. ज्ञानवापी का मसला चल रहा है. क्या कांग्रेस, बसपा, आप और सपा इस मसले पर बोलीं ? सब ख़ामोश हैं क्योंकि आपका वोट बैंक नहीं रहा.

1991 के प्लेसेज ऑफ वर्शिप एक्ट का यह खुला उल्लंघन

वहीं, AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि मामले में फैसला बाबरी मस्जिद मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले का उल्लंघन है. ओवैसी ने कहा कि 4994 के प्लेसेज ऑफ वर्शिप एक्ट का यह खुला उल्लंघन है. ओवैसी ने बताया कि “मुझे उम्मीद है कि ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड और मस्जिद कमेटी सुप्रीम कोर्ट जाएंगे. मैंने एक बाबरी मस्जिद खो दी है और मैं दूसरी मस्जिद नहीं खोना चाहता.”


यह भी पढ़े – कोरोना और यूक्रेन-रूस युद्ध नहीं होता तो हमारी अर्थव्यवस्था 4.3 ट्रिलियन डॉलर होती : रक्षामंत्री राजनाथ सिंह


मदरसों में देश प्रेम सिखाया जाता है

उन्होंने कहा, कोर्ट का आदेश पूजा स्थल अधिनियम 1991 का घोर उल्लंघन है. यह बाबरी मस्जिद शीर्षक विवाद में दिए गए सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का उल्लंघन है. 15 अगस्त और 26 जनवरी को सभी मदरसे देशभक्ति की बात करते हैं. मदरसों में देश प्रेम सिखाया जाता है. आप उन्हें शक की निगाह से देखते हैं, इसलिए ऐसे कानून बना रहे हैं.

अब तक क्या हुआ

वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर कोर्ट ने गुरुवार को बड़ा फैसला सुनाया. कोर्ट ने ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे के लिए नियुक्त किए गए एडवोकेट कमिश्नर अजय कुमार मिश्रा को हटाए जाने से इनकार कर दिया. हालांकि, अदालत ने कोर्ट कमिश्नर अजय मिश्रा के अलावा विशाल कुमार सिंह को भी कोर्ट कमिश्नर नियुक्त किया है. कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि पूरी ज्ञानवापी मस्जिद परिसर का सर्वे किया जाएगा, इसमें तहखाना भी शामिल हैं. इस दौरान वीडियो ग्राफी भी कराई जाएगी. कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार और प्रशासन को आदेश दिए हैं कि इस कार्रवाई को पूरा कराया जाए. जो भी लोग इसमें व्यवधान डालेंगे, उनपर कार्रवाई की जाए.

ज्ञानवापी मस्जिद में आज हुआ सर्वे

वाराणसी में स्थित ज्ञानवापी मस्जिद के अंदर सर्वे का काम शनिवार को पहले दिन सफलतापूर्वक पूरा हुआ. इस दौरान तहखाने के पांचों कमरों का सर्वे किया गया. आगे भी वीडियोग्राफी जारी रहेगी. सर्वे के बाद उक्त स्थानों को फिर से सील कर दिया गया है. वादी-प्रतिवादी पक्ष ने सर्वे के कार्य में पूरा सहयोग किया.

सबसे पहले सर्वे की टीम सुबह 8 बजकर 16 मिनट पर मस्जिद परिसर में पहुंची. इस टीम के साथ कैमरे भी थे. सर्वे के लिए परिसर के अंदर गई टीम के मोबाइल बाहर ही जमा करा लिए गए. फिर टीम तहखाने की तरफ बढ़ी. तहखाना जंजीरों और तालों से जड़ा हुआ था.

आज के सर्वे के बाद हिंदू पक्ष ने दावा किया कि सारे साक्ष्य हमारे पक्ष में हैं. तहखानों में मूर्तियों के भग्नावशेष मिले हैं. हिंदू पक्ष ने कहा कि तहखाने में शरारती तत्वों ने मिट्टी भर दी थी उसे साफ किया गया. लिंगायत समाज में काशी में लिंग दान का प्रचलन है, तहखाने में उस परम्परा के टूटे लिंग मिले हैं.

(आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)