हिजाब में खेलने वाली मुस्लिम महिलाओं पर प्रतिबंध लगाएगा फ्रांस

0
358

फ़्रांस की सीनेट मुस्लिम महिलाओं के हिजाब में खेल खेलने पर प्रतिबंध लगाने के लिए मतदान करा रही है। मतदान करने वालों का कहना है कि यह तथाकथित धार्मिक तटस्थता के नाम पर मुस्लिम महिलाओं को लक्षित करने के लिए होने वाली कवायद है। (France Ban Sports Hijab)

फ्रांस में मानवाधिकारों की वकालत करने वाली मारिया डी कार्टेना का कहना है कि जिस मुद्दे पर मतदान कराया जा रहा है, इसका मकसद असल में मुसलमानों की आस्था, इबादत, संस्कृति और राजनीतिक की अभिव्यक्ति के सभी रूपों को दबाना है।

इमैनुएल मैक्रों की सरकार ने विवादास्पद फैसलों से जरिए लगातार मुसलमानों पर प्रतिबंध लगाने की कोशिश की है। डी कार्टेना ने कहा कि संस्थागत रूप देने के लिए मंगलवार को ऊपरी सदन में 160 और 143 मतों के अंतर से निर्णय को पारित कराया गया।

डी कार्टेना का कहना है कि फ्रांसीसी सरकार “इस्लामी अतिवाद” से लड़ने का दावा करती है, लेकिन आलोचकों का कहना है कि वह धार्मिक स्वतंत्रता पर प्रतिबंध लगाकर मुसलमानों को गलत तरीके से निशाना बना रही है।

हाल के वर्षों में कई प्रतिबंधों के बाद, फ्रांसीसी सीनेट मुस्लिम आप्रवासन को प्रतिबंधित करने के लिए फिर से कार्रवाई कर रही है। सीनेट “यह साबित करने की कोशिश कर रही है कि इस्लामोफोबिया राजनीति, कानून और मीडिया में स्थायी और सर्वव्यापी है।”

फ्रांसीसी संसद ने मुस्लिम महिलाओं को अपने बच्चों के साथ स्कूल में आने के दौरान हिजाब पहनने पर प्रतिबंध लगाने वाला एक कानून पारित किया। इस्लामी प्रतीकों, खासतौर पर हिजाब को ऐसा प्रतीक बना दिया गया है, जैसे गणतंत्र की हर चीज के लिए इसी से खतरा हो। (France Ban Sports Hijab)

डी कार्टेना कहती हैं, देश के 54 लाख मुस्लिम अल्पसंख्यकों पर मैक्रों का लेजर जैसा फोकस है। जबकि यहां महामारी से निपटने में बंदोबस्त नाकाफी रहे हैं, स्वास्थ्यकर्मी खुद को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं।

जल्द होने जा रहे राष्ट्रपति चुनाव से पहले मैक्रों राजनीतिक स्पेक्ट्रम में हर तरफ से मुस्लिम प्रथाओं पर सख्त दिखने के लिए कदमताल कर रहे हैं।

डी कार्टेना को उस नए कदम का डर है जो महिलाओं को खेल में भाग लेने से रोक देगा। उनका कहना है कि इस तरह के प्रतिबंध “बाकी समाज से मुसलमानों के अलगाव” को बढ़ाने के अलावा कुछ नहीं करेंगे।

व्यापक अर्थ में, “इस्लामोफोबिया फ्रांस में महज एक पार्टी का मुद्दा नहीं है; यह सिस्टम मुद्दा है! इस्लामोफोबिया समाज के सभी स्तरों पर देखा जा सकता है, सरकारी स्तर पर, पुलिस के स्तर पर और यहां तक ​​कि न्यायपालिका के स्तर पर भी। डी कार्टेना ने कहा। (France Ban Sports Hijab)

Tags: hijab ban | hijab in france | france hijab ban | france hijab ban law | hijab banned countries | hijab sport | france ban on hijab


यह भी पढ़ें: मैक्रों के भाषण के बाद फ्रांस की 76 मस्जिदें बंद


(आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here