बंगाल में मतदान के बाद एग्जिट पोल पर होगी सबकी नजर, जानें कब और कहां होंगे जारी

0
448

लखनऊ | आज पश्चिम बंगाल में आठवें और आखिरी चरण का मतदान हो रहा है और मतदान की प्रक्रिया खत्म होते ही सबकी नजरें एग्जिट पोल पर रहेंगी। हालांकि चुनाव आयोग ने साफ तौर पर कह दिया है कि मतदान खत्म होते ही एग्जिट पोल नहीं दिखाना है। शाम को साढ़े सात बजे के बाद एग्जिट पोल जारी किए जाएंगे।

आइए जानते हैं कब, कहां और कैसे देख सकेंगे एग्जिट पोल

सभी चरणों के मतदान पूरा होने के बाद ही एग्जिट पोल जारी किए जाते हैं। इसके लिए बाकायदा सर्वे एजेंसियां अलग-अलग विधानसभा क्षेत्रों में मतदान के बाद मतदाताओं से बात करती हैं। इसके आधार पर यह अनुमान लगाया जाता है कि कौन सी पार्टी सरकार बनाने जा रही है। हालांकि, हर बार एग्जिट पोल सही साबित नहीं होते।

शाम साढ़े सात बजे के बाद जारी होंगे एग्जिट पोल 

गुरुवार को बंगाल में आठवें और अंतिम चरण का मतदान की प्रक्रिया संपन्न होने के बाद शाम साढ़े सात बजे एग्जिट पोल जारी होंगे। आप इसकी लाइव स्ट्रीमिंग न्यूज़ चैनलों के यूट्यूब चैनल पर भी देख सकते हैं। ये चैनल सर्वे एजेंसी के साथ मिलकर सर्वे करते हैं और एग्जिट पोल के आंकड़े जारी करते हैं। ध्यान रहे कि एग्जिट पोल कभी भी मतदान के दौरान या पहले जारी नहीं होता।

चुनाव आयोग ने सभी मीडिया संस्थानों और टेलीविजन चैनलों को ये निर्देश दे दिया है कि वो शाम को साढ़े सात बजे से पहले एग्जिट पोल नहीं दिखा सकते। बता दें बंगाल में मतदान खत्म होने के एक घंटे बाद केरल, तमिलनाडु, असम, पुडुचेरी और बंगाल के लिए एग्जिट पोल जारी हो जाएंगे। सबको दो मई का इंतजार है। इस दिन नतीजे आएंगे। आइए जानते हैं कि चारों राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश में कैसी रही चुनावी प्रक्रिया…

1. पश्चिम बंगाल
26 अप्रैल को हुए सातवें चरण के मतदान में 76.89 फीसदी वोटिंग हुई। 23 अप्रैल को प्रधानमंत्री मोदी ने पश्चिम बंगाल में सभी रैलियों को वर्चुअल तरीके से संबोधित करने का फैसला किया। वहीं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और उनके भतीजे अभिषेक बनर्जी ने भी सभी रैलियां रद्द करने का फैसला लिया। रैलियों के दौरान भाजपा और टीएमसी ने जमकर एक-दूसरे पर निशाना साधा और आरोप-प्रत्यारोप लगाए। पश्चिम बंगाल में भाजपा के शीर्ष नेताओं ने जान फूंक दी, इसमें पीएम मोदी, अमित शाह, राजनाथ सिंह, जेपी नड्डा और स्मृति ईरानी ने जमकर  हिस्सा लिया।

2. तमिलनाडु
तमिलनाडु में एक ही चरण में छह अप्रैल को मतदान कराए गए। तमिलनाडु में 71.43 फीसदी वोटिंग दर्ज की गई। वहीं जिलों की बात करें तो करूर जिले में सबसे ज्यादा 83.92 फीसदी वोटिंग दर्ज की गई, वहीं चेन्नई में सबसे कम 55.28 फीसदी वोटिंग हुई।

3. असम
असम में तीन चरणों में मतदान किए गए। असम में पहला मतदान 27 मार्च, दूसरा मतदान एक अप्रैल और तीसरा मतदान छह अप्रैल को किया गया। मौजूदा समय में असम में भाजपा की सरकार है। असम में कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने जमकर रैलियां कीं। वहीं पीएम मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने खूब जनसभाएं कीं। असम में सीएए और चाय के बागानों में काम करने वाले मजदूरों का मुद्दा सबसे ज्यादा चर्चित रहा। वहीं कांग्रेस ने राज्य के लिए पांच गारंटी देने का भी वादा किया।

4.केरल
केरल में 140 विधानसभा सीटों पर चुनाव लड़े गए। केरल में भी तमिलनाडु की तरह एक ही चरण में चुनाव करवाया गया और वहां 73.58 फीसदी वोटिंग दर्ज की गई। वहां कुल 2.74 करोड़ लोगों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। केरल में भाजपा की सरकार लाने के लिए पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने जमकर रैली की। वहीं मुख्य विपक्षी पार्टी के तौर पर कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने भी सक्रियता दिखाई।

5. पुडुचेरी
पुडुचेरी में एक ही चरण में मतदान करवाया गया और राज्य में 81.64 फीसदी वोटिंग दर्ज की गई। बता दें कि कांग्रेस सरकार के अल्पमत में आने के बाद यहां विधानसभा चुनाव कराए गए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here