“एक परिवार, एक टिकट” पर कांग्रेस में सहमति, ये बड़े बदलाव किये गए शामिल

0
97

द लीडर | आगामी लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने संगठन के पेच कसने शुरू कर दिए हैं. इसी कड़ी में राजस्थान के उदयपुर में तीन दिवसीय चिंतन शिविर का आयोजन हो रहा है. कांग्रेस ने उदयपुर चिंतन शिविर के दौरान संगठन में बदलाव के लिए कुछ बड़े फैसले किए हैं. कांग्रेस महासचिव अजय माकन ने बताया कि पार्टी एक परिवार, एक टिकट के नियम पर पूरी तरह से एकमत है. उन्होंने सम्मेलन के बाद पार्टी में बड़े संगठनात्मक बदलाव का वादा किया.

अजय माकन ने कहा कि पैनल के सभी सदस्य लगभग पूरी तरह से इस बात पर सहमत हैं कि एक परिवार के एक ही सदस्य को टिकट दिया जाए. परिवार के दूसरे सदस्य को पार्टी तभी टिकट देगी जब उसने संगठन में कम से कम पांच साल काम किया हो. साथ ही पार्टी में अब कोई भी नेता किसी भी पद पर 5 साल से ज़्यादा नहीं रहेगा. अगर ऐसे किसी व्यक्ति को किसी पद पर वापस लाया जाना हो तो उसे कम से कम 3 साल का कूलिंग पीरियड अनिवार्य होगा.

युवाओं को किया जाएगा शामिल

वहीं युवा दिखने की कवायद में कांग्रेस ने ये भी तय किया है कि अब हर स्तर पर संगठन में कम से कम 50 फीसदी युवाओं को शामिल किया जाएगा. कांग्रेस महासचिव माकन ने कहा कि ब्लॉक और बूथ समितियों के बीच मंडल समिति बनाने पर सहमति बनी है. एक मंडल समिति में 15 से 20 बूथ होंगे. अजय माकन ने कहा कि जमीनी स्तर पर सर्वेक्षण और इस तरह के अन्य कार्यों के लिए पार्टी में ‘पब्लिक इनसाइट डिपार्टमेंट’ बनाने का भी प्रस्ताव है. इसके अलावा ये भी प्रस्ताव है कि पदाधिकारियों के कामकाजी प्रदर्शन की जांच परख के लिए आंकलन इकाई (असेसमेंट विंग) बने ताकि अच्छी तरह काम करने वालों को जगह मिले और काम नहीं करने वालों को हटाया जाए.


माकन ने बताया कि यह भी प्रस्ताव है कि संगठन में किसी पद पर कोई व्यक्ति अधिकतम पांच साल रहे और फिर उसके पद पर आसीन होने के लिए तीन साल का “कूलिंग पीरियड” हो. उन्होंने कहा कि जमीनी स्तर पर सर्वेक्षण और इस तरह के अन्य कार्यों के लिए पार्टी में “पब्लिक इनसाइट डिपार्टमेंट” बनाने का भी प्रस्ताव है. आगे माकन ने कहा कि इसके अलावा यह भी प्रस्ताव है कि पदाधिकारियों के कामकाजी प्रदर्शन की जांच परख के लिए आकलन इकाई (असेसमेंट विंग) बने ताकि अच्छी तरह काम करने वालों को जगह मिले और काम नहीं करने वालों को हटाया जाए.

सत्ता की राह तैयार करने की कोशिश

नव संकल्प शिविर के जरिए कांग्रेस पार्टी अपने संगठन में भी बड़े बदलाव करने जा रही है. अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव अजय माकन ने शिविर की शुरुआत से पहले इसके संकेत दिए. माकन ने कहा कि कांग्रेस में क्या खामियां हैं. पार्टी इस बात को अच्छी तरह जानती है और पार्टी खुद ही अपनी खामियों को दूर करने में सक्षम भी है. अजय माकन ने बताया कि अब तक कांग्रेस में बूथ स्तर की कमेटी के बाद सीधे ब्लॉक का संगठन आता था, लेकिन अब छोटी-छोटी समितियां भी बनाई जाएंगी जो संगठन को मजबूत करेंगी. अजय माकन ने कहा कि कांग्रेस पार्टी इस बात पर सर्वसम्मति बनाने के प्रयास में है कि 15 से 20 पोलिंग बूथ पर एक मंडल समिति बनाई जाए और इस मंडल समिति के जरिए संगठन के मुद्दों को समाज में नीचे तक पहुंचाया जाए.

चिंतन शिविर में शामिल होंगे देशभर के नेता

कांग्रेस पार्टी उदयपुर में चिंतन शिविर में को बड़े स्तर आयोजित कर रही है. जिसमें देशभर के कई हिस्सों से करीब 400 नेता शामिल होंगे. बताया जा रहा है कि राहुल गांधी इस शिविर में हिस्सा लेने के लिए खुद ट्रेन से उदयपुर के लिए निकलेंगे, उनके साथ कई नेता भी जाएंगे. इसके अलावा प्रियंका गांधी व कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी फ्लाइट से कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचेंगी. गौरतलब है कि बीते सोमवार को कांग्रेस वर्किंग कमेंटी में भी सोनिया ने नेताओं से कहा था कि अब उन्हें पार्टी के लिए जुटना होगा। पार्टी ने हम सब को बहुत कुछ दिया है.

(आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)