बीजेपी को साल 2020-21 में मिला 477 करोड़ का चंदा, दूसरे नंबर पर रही कांग्रेस

0
69

द लीडर | वित्तीय वर्ष 2020-21 में बीजेपी ने 477 करोड़ रुपये का फंड जुटाया है वहीं कांग्रेस मे मात्र 74 करोड़ रुपये का चंदा जुटा पाया. आपको जानकर हैरानी होगी की कांग्रेस को मिला चंदा बीजेपी के चंदे का सिर्फ 15 फीसदी ही है. वहीं बीजेपी को कांग्रेस से 6 गुना ज्यादा चंदा मिला है. इस तरह से अगर देखा देखा जाए तो सत्ताधारी पार्टी बीजेपी देश की सबसे धनी पार्टी बनी हुई है. चुनाव आयोग ने दोनों पार्टियों को मिले चंदे की रिपोर्ट मंगलवार को सार्वजनिक की.

इस रिपोर्ट के मुताबिक बीजेपी को अलग-अलग संस्थाओं, चुनावी ट्रस्टों और व्यक्तियों से 4,77,54,50,077 रुपये प्राप्त हुए हैं. बीजेपी ने इसी साल मार्च के महीने में ही वित्त वर्ष 2020-21 में मिले चंदे का ब्यौरा चुनाव आयोग को सौंपा था. वहीं कांग्रेस ने इस रकम को 74,50,49,731 रुपये दिखाया है.

चुनाव आयोग ने सार्वजनिक की रिपोर्ट

दरअसल चुनाव कानून प्रावधानों के अनुसार 20 हजार रुपये से अधिक खर्च करने की अनुमति वाले चुनाव के लिए मिले चंदे की रिपोर्ट चुनाव आयोग को दाखिल करनी होती है. साल 2014 में नरेंद्र मोदी सरकार बनने के बाद से पार्टी के चंदे में भारी इजाफा हुआ और वो देश की नंबर वन पार्टी बनी हुई है. वित्तीय वर्ष 2020-21 में 477 करोड़ तो वहीं वित्तीय वर्ष 2019-20 की अगर बात करें तो बीजेपी ने अपनी पूरी संपत्ति 4847 करोड़ रुपये घोषित की थी. ये देश की सभी राजनीतिक पार्टियों में सबसे अधिक संपत्ति है. वहीं कांग्रेस ने इसी वित्तीय वर्ष में अपनी संपत्ति 588.16 करोड़ रुपये घोषित की थी.


यह भी पढ़े –दिल्ली : शाही जामा मस्जिद के ग़ुंबद का कलश टूटा, 366 साल के इतिहास में ये पहला हादसा


14 मार्च तक की रिपोर्ट

निर्वाचन आयोग ने दोनों दलों की चंदे से संबंधित रिपोर्ट मंगलवार को सार्वजनिक की. इसके मुताबिक, भाजपा को कई इकाइयों, चुनावी ट्रस्ट और व्यक्तियों से 4,77,54,50,077 रुपये का चंदा मिला. भाजपा ने वित्त वर्ष 2020-21 में मिले चंदे की रिपोर्ट गत 14 मार्च को आयोग को सौंपी थी. कांग्रेस को मिले चंदे की रिपोर्ट के अनुसार, उसे विभिन्न इकाइयों और व्यक्तियों से 74,50,49,731 रुपये का चंदा मिला. निर्वाचन कानून के प्रावधानों के मुताबिक राजनीतिक दलों को 20 हजार रुपये से अधिक के चंदे से जुड़ी जानकारी देनी होती है.

बीजेपी देश की सबसे धनी पार्टी

साल 2014 में सत्ता में आने के बाद से बीजेपी देश की सबसे अमीर पार्टी बन गई है. 2019-20 एडीआर की रिपोर्ट के मुताबिक संपत्ति के मामले में बीजेपी सबसे धनी पार्टी थी और नंबर एक पर काबिज थी. वहीं देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस तीसरे नंबर पर थी. इसके अलावा मायावती की बहुजन समाजवादी पार्टी दूसरे नंबर पर थी.

लगातार आठवें साल कांग्रेस को कम मिला चंदा

कांग्रेस की तरफ से दी गई जानकारी के अनुसार, पार्टी को बीते वर्ष इलेक्टोरल ट्रस्ट, व्यक्तियों और अलग-अलग संस्थाओं से महज 74.50 करोड़ रुपये का चंदा प्राप्त हुआ है. गौरतलब है कि 2014 में भाजपा के हाथों सत्ता गंवाने वाली कांग्रेस एक के बाद एक राज्यों में हारती जा रही है और फिलहाल राजस्थान और छत्तीसगढ़ में उसकी सरकार है. यह लगातार आठवां साल है जब कांग्रेस चंदा पाने में भाजपा से पिछड़ी है.

20,000 से ज्यादा के चंदे की जानकारी जरूरी

कानून के तहत राजनीतिक पार्टियों को 20,000 रुपये से अधिक की रकम में मिले चंदे की जानकारी चुनाव आयोग को देना जरूरी है. हालांकि, चंदा लेने में बरती गई पारदर्शिता हमेशा से सवालों के घेरे में रही है.

इलेक्टोरल ट्रस्ट से चंदा पाने में भी भाजपा आगे

राजनीतिक दलों को व्यवस्थित रूप से उद्योग जगत और लोगों से चंदा एकत्र करने के लिए गठित सात इलेक्टोरल ट्रस्टों से 2020-21 में कुल 258.49 करोड़ रुपये का चंदा मिला था. इनमें से सबसे ज्यादा 212.05 करोड़ रुपये केंद्र में सत्तारूढ़ भाजपा को दिए गए, जबकि कांग्रेस को महज 5.43 करोड़ मिले थे. जनता दल यूनाइटेड को कांग्रेस से ज्यादा 10 करोड़ रुपये का चंदा मिला था. एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) की रिपोर्ट से यह जानकारी मिली थी.

(आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)