भगवंत मान ने रिश्वतखोरी में फंसे अपने ही स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री को किया बर्खास्त

0
162

द लीडर | पंजाब के मुख्‍यमंत्री भगवंत मान द्वारा राज्‍य के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डा. विजय सिंगला को कैबिनेट से बर्खास्‍त किए जाने के बाद सियासत गर्मा गई है। विजय सिंगला के रूप में मानसा को 27 साल बाद मंत्री पद मिला था, लेकिन अब वह भी उसके हाथ से चला गया है। कांग्रेस ने पूरे मामले में आप सरकार पर निशाना साधा है। दूसरी ओर, आम आदमी पार्टी का कहना है कि भ्रष्‍टाचार को किसी भी रूप में सहन नहींं किया जाएगा।

विजय सिंगला पर अधिकारियों से ठेके पर एक फीसदी कमीशन की मांग करने और भ्रष्टाचार में लिप्त होने की शिकायतें आ रही थीं. विजय सिंगला के भ्रष्टाचार में लिप्त होने के आरोप को लेकर पुख्ता सबूत मिलने के बाद सीएम भगवंत मान ने उन्हें अपने मंत्रिमंडल से बाहर का रास्ता दिखा दिया. सीएम मान ने विजय सिंगला को मंत्रिमंडल से बर्खास्त करने का ऐलान करते हुए पंजाब पुलिस को भी सिंगला के खिलाफ मामला दर्ज करने के निर्देश दिए थे.


यह भी पढ़े –यूपी विधानसभा सत्र : मंत्री मुझे उस दुकान के बारे में बता दें जहां 1100 रूपए में बच्चों की दो ड्रेस आ सकें : अखिलेश यादव


सीएम ने कहा, मंत्री ने कबूला अपराध

इस पूरे मामले पर पंजाब के सीएम भगवंत मान एक वीडियो में कहा क‍ि वे वह आप के अपने लोगों सहित सभी को भ्रष्टाचार के प्रति जीरो टॉलरेंस का संदेश देना चाहते हैं। उन्होंने कहा क‍ि मेरे संज्ञान में एक मामला लाया गया था कि मेरे मंत्रिमंडल में एक मंत्री अपने विभाग से संबंधित प्रत्येक निविदा और खरीद के लिए 1 प्रतिशत कमीशन की मांग कर रहा था। इस मामले के बारे में सिर्फ मैं जानता था, न तो मीडिया और न ही विपक्ष इसे जानता था।

अगर मैं चाहता तो मैं इसे कवर कर लेता। अगर मैंने ऐसा किया होता तो मैं अपनी अंतरात्मा को नहीं बल्कि उन लाखों लोगों को भी जिन्होंने मुझ पर भरोसा किया, विफल होता। मैं उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई कर रहा हूं। मैं उन्हें अपने मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर रहा हूं और पुलिस को उनके खिलाफ कार्रवाई करने का निर्देश दे रहा हूं। उन्‍होंने यह जुर्म कबूल कर लिया है।

बता दें कि करीब 10 वर्ष पहले विजय सिंगला ने आम आदमी पार्टी का दामन थामा था। वह पेशे से डॉक्टर हैं और लम्बे समय से डेंटल क्लिनिक भी चला रहे हैं। हालिया पंजाब विधानसभा चुनाव में डॉ. विजय सिंगला ने मानसा से प्रसिद्ध गायक और कांग्रेस उम्मीदवार सिद्धू मूसेवाला को 60,000 से अधिक वोटों से हराया था।

(आप हमें फ़ेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)